Raigarh News : स्टाइपेंड नहीं बढ़ने से नाराज जूनियर डॉक्टर्स की हड़ताल से चिकित्सा व्यवस्था प्रभावित, मरीज हलाकान

0
14

रायगढ़ टॉप न्यूज 20 जनवरी। स्टाइपेंड नहीं बढऩे से नाराज जूनियर डॉक्टर्स ने अब हड़ताल का रुख अख्तियार कर लिया है। ऐसे में मेडिकल कॉलेज की ओपीडी सहित अन्य सेवाएं चरमरा गई है तो मरीजों के साथ उनके अटेंडेंटरों को भी भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

सूत्रों के मुताबिक कोरोना काल में अपनी जान की बाजी लगाकर चौबीसों घंटे चिकित्सा सेवा देने वाले जूनियर डॉक्टर्स गुरुवार से हड़ताल पर चले गए हैं। दरअसल, स्टाइपेंड में बढ़ोतरी की मांग को लेकर काफी समय से संघर्ष के बाद भी न्याय नहीं मिलने पर प्रदेश के 3000 जूनियर डॉक्टरों ने बुधवार को काली पट्टी लगाकर काम किया, फिर अब हड़ताल पर चले गए हैं। चूंकि, रायगढ़ के गुरु घासीदास चिकित्सा महाविद्यालय में 51 जूनियर डॉक्टर और 5 स्पेशलाइज्ड डॉक्टर्स ने हड़ताल का रुख अख्तियार कर लिया है, ऐसे में यहां चिकित्सा व्यवस्था भी प्रभावित हो रही है।

दरअसल, एम्स की तर्ज पर जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन ने दोगुनी छात्रवृत्ति देने की मांग रखी है। गुरुवार सुबह 8 बजे से रायगढ़ के मेडिकल कॉलेज में धरना-प्रदर्शन के जरिए जूनियर डॉक्टर्स हड़ताल कर अपने हक की लड़ाई लड़ रहे हैं। जूनियर डॉक्टर विवेक बंजारे का कहना है कि स्टाइपेंड कम होने के कारण जुडो एसोसिएशन अपनी मांगों को डीन के जरिये सरकार तक पहुंचाने की कोशिश कर रही है। 4 माह से इंटर्नशिप की ड्यूटी कर रहे। दो महीने से वेतन विलंब से मिला, जो कि काम के हिसाब से कम है। यही कारण है कि जूनियर डॉक्टर्स हड़ताल कर रहे हैं।

जूनियर डॉक्टर ललिता पटेल बताती हैं कि उनका एसोसिएशन बीते दो साल से शिष्यावृत्ति बढ़ाने की मांग को लेकर शासन से मांग कर रहा है। कई बार पत्राचार भी किया गया, लेकिन बदले में आश्वासन के अलावा कुछ नहीं मिला। वहीं पिछले चार वर्षों से जूनियर डॉक्टर्स के मानदेय में कोई वृद्धि नहीं हुई है। जिस तरह अन्य राज्यों में छत्तीसगढ़ की तुलना में अधिक शिष्यावृत्ति मिल रही है। ऐसे में सरकार यहां भी शिष्यावृत्ति में बढ़ोतरी करे। हड़ताल पर गए डॉक्टर ने कहा कि जब तक शिष्यावृत्ति नहीं बढ़ाई जाती है, आंदोलन खत्म नहीं होगा।

बहरहाल, जूनियर डॉक्टरों के हड़ताल करने से मेडिकल कॉलेज में ओपीडी सहित ऑपरेशन थिएटर और सर्जरी से लेकर लैब में ब्लड जांच, सोनोग्रॉफी स्कैन, टेस्ट रिपोर्ट जैसी इमरजेंसी सेवाएं प्रभावित होने से आम जनता हलाकान हो रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here