रायगढ़ का गोली कांड हुआ हाई प्रोफाइल, डॉ. पी. के. पटेल लगातार घिरते नजर आ रहे.. रायपुर एफ.एस.एल. की टीम भी जांच करने पहुंची रायगढ़

0
22

पुलिस विभाग ने रायगढ़ टॉप न्यूज से की पुष्टि, रायगढ़ पुलिस जांच में कोई कमी नही छोड़ी
डॉक्टर के बताये घटना स्थल और डॉक्टर के घर में की जांच
जल्द ही अपनी रिपोर्ट सौंपेंगी, पुलिस के अनुसार प्रथम दृष्टया डॉक्टर ने ही चलाई थी गोली

रायगढ़ टॉप न्यूज 3 जनवरी। रायगढ़ शहर में नये साल के जश्न के बीच गोली चलने की घटना को लेकर डॉक्टर पी. के. पटेल लगातार घिरते नजर आ रहे हैं। कल जहां रायगढ़ के कोतवाली पुलिस ने प्रथम दृष्टया डॉक्टर द्वारा ही स्वयं गोली चलाने की बात कही थी वहीं पुलिस जांच में भी गोली चलने की घटना भी डॉक्टर की सोची समझी साजिश की ओर इशारा कर रही है। कल बिलासपुर एफ.एस.एल. की टीम ने दोनों ही स्थानों का निरीक्षण किया था वहीं आज रायपुर से पहुंची एफ.एस.एल. की टीम जिसमें टी. एल चंद्रा ने डॉक्टर के घर और होटल अलंकार किचन गार्डन की जांच की। जिसमें भी यह बात सामने आ रही है कि डॉक्टर द्वारा ही अपने हाथ के हथेली में गोली चलाने की बात सामने आ रही है।

दरअसर पूरा मामला 1 जनवरी की रात की है शहर के कोतरा रोड़ ट्रिनिटी के सामने रहने वाले रिटायर्ड डॉक्टर पी.के. पटेल ने जिला पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों को सूचना दिया कि उस पर होटल अलंकार किचन गार्डन में न्यू ईयर पार्टी मना रहे किसी युवक ने गोली चला दिया है जो उनके हाथ पर लगा है। इस खबर के पुलिस महकमा में हड़कंप मच गया। कोतवाली थाना प्रभारी शनिप रात्रे बिना देर किये तत्काल अपने स्टाफ के साथ कोतरारोड़ बाईपास के अलंकार होटल पहुंच गये । जहां डॉ पी. के. पटेल के मौजूदगी में पुलिस टीम द्वारा होटल में मौजूद लोगों से पूछताछ कर जांच पड़ताल शुरू कर दिया।

जांच में पता चला डॉक्टर का घर होटल की बाउंडरी से लगा हुआ है, अपने शिकायत में डॉक्टर ने कहा था कि रात्रि तेज आवाज में बज रहे डीजे को बंद कराने होटल गया था। इस दौरान किसी ने उस पर फायर किया जो उसके हाथ पर चोट आया है । डॉ. पटेल के बताए घटनास्थल पर किसी भी प्रकार के संघर्ष, फायरिंग अथवा खून(ब्लड) के निशान नहीं मिले। किंतु आहत के हाथ पर चोट का निशान और हाथ पर कार्बन के कण मौजूद थे जिसे लेकर टी.आई. शनिप रात्रे डॉ0 पी.के. पटेल से बारीकी से पूछताछ कर डॉक्टर पटेल के घर जाकर तस्दीक शुरू की । डॉक्टर पटेल के घर कमरे के फर्श पर खून के महीन निशान था तथा फायरिंग से दीवार पर बुलेट (राउंड) के टकराने के निशान भी पाए गए । पुलिस की जांच पर पाया गया कि डॉक्टर पटेल द्वारा स्वयं अपने हाथ पर सटाकर फायर किया गया है जिस कारण उनके हाथ में फायरिंग से कार्बन के कण हाथ में और राउंड के दीवार पर टकराने के निशान मौजूद हैं और घटना अलंकार होटल किचन गार्डन पर ना होकर डॉक्टर पटेल के घर कमरे का है । बताया यह भी जा रहा है कि पुलिस ने डॉक्टर का मुलायजा भी कराया है। डॉक्टर शराब सेवन किया हुआ था।

कोतवाली पुलिस ने आहत का डॉक्टरी मुलाहिजा करा कर जांच आगे बढा रही थी कि डॉक्टर पी.के. पटेल द्वारा स्वत: एफआईआर कराने से आनाकानी करने लगे । इसी बीच एसपी अभिषेक मीना द्वारा कोतवाली पुलिस को डॉक्टर पी.के. पटेल के पास रखे रिवाल्वर और उसके लायसेंस की जांच करने और एफ.एस.एल. टीम को होटल और डॉक्टर पटेल के घर का बारीकी से निरीक्षण करने के निर्देश दिए साथ ही सायबर सेल और कोतवाली पुलिस की टीम होटल में लगे सभी सीसीटीवी फुटेज चेक किए जा रहे हैं ।

पूरे मामले की जांच के लिए कल घटना स्थल पहुंचे कोतवाली टीआई शनिप रात्रे ने मीडिया को बताया कि गोली चलने की घटना बहुत ही गंभीर मामला है। पुलिस हर दृष्टिकोण से मामले की जांच कर रही है एफ.एस.एल. टीम भी मौके पर जांच करने पहुंचा हुआ था। डॉक्टर पी.के. पटेल द्वारा जो घटना स्थल बताये थे और उनके घर की भी जहां दीवार पर बुलेट (राउंड) के टकराने के निशान भी पाए गए थे उनका बारिकी से निरीक्षण किये हैं उन सभी पहलुओं को लेकर जांच कर रहे है। टीआई शनिप रात्रे का कहना है कि प्रथम दृष्टया डॉक्टर द्वारा ही गोली चलाई गई है। उनके लाइसेंसी रिवाल्वर को पुलिस ने सीज किया है। जिसे आर्मोरी जांच और बैलिस्टिक जांच के लिए भेजा जाएगा। उसमें भी कार्बन के कण मौजूद हैं और डॉक्टर के हाथ में जहां गोली लगी है उस कार्बन के कण को भी जांच के लिए भेजेंगे। तभी पता चल पायेगा की फायरिंग उनके लाइसेंसी रिवाल्वर से हुआ है या किसी अन्य से।

वहीं इस मामले में होटल अलंकार किचन गार्डन के संचालक ने बात चीत में बताया कि रात में पौने 11 बजे दो पुलिस वाले आये थे और उन्होंने आवाज कम करने के लिए कहा था तब मैने साऊंड कम कर दिया। जिसके आधा घंटा बाद फिर वापस आये उनके साथ डॉक्टर भी था उन्होंने कहा कि आपके यहां से गोली चली है उस दौरान यहां पर 25 से 30 परिवार खाना खा रहे थे उनके बोलने से हमने पूरा साऊंड ही बंद कर दिया। ना कोई अफरा तफरी थी ना ही कुछ और। डॉक्टर बार बार बोल रहा था कि यहां से गोली चली है। फिर पुलिस डॉक्टर के घर भी गये वहां जांच किया मैं भी थाने में बैठा रहा । पुलिस ने जब जांच कि तो पता चला कि डॉक्टर ने यह कहानी बनाई हुई है। हमारी तरफ से कोई गलती नहीं है जिला प्रशासन द्वारा जारी निर्देशों का हमने पालन किया है।
फिलहाल गोली चलने की घटना से पुलिस प्रशासन देर रात से लेकर पूरा दिन हलकान रहा । अब देखना यह है कि पुलिस इस मामले में क्या कार्रवाई करती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here