कबीर का जीवन सभी के लिए आज भी प्रासंगिक है :- ओपी

0
19
रायगढ़ :- खरसिया में कबीर के अंतर्राष्ट्रीय आयोजन में  भाजपा महामंत्री ओपी चौधरी ने मनचस्थ संतो को नमन करते हुए कहा कबीर का जीवन आज भी समाज के लिए उतना ही प्रासंगिक है जितना उस दौरान था l  ओपी ने कहा भारतीय संस्कृति में बहुत से संतो का अवतरण हुआ उनमें से कबीर भी एक रहे l सबसे बड़ी बात यह है कि समाज के जब जब किसी कुरुतियो की जड़े गहरी हुई है तभी कोई न कोई महापुरुष अवतरित हुआ है l और उसने हमारे समाज को नई ऊर्जा प्रदान कर नई दिशा प्रदान की है l ऐसे महापुरुषों में संत कबीर का नाम भी शामिल है l ऐसे ही  विराट व्यक्तित्व कबीर का जन्म हुआ l बचपन में कबीर के दोहे पढ़ने की बात भी उन्होंने कही l अपने जीवन से जुड़ा संस्मरण सुनाते हुए ओपी चौधरी ने कहा  आईएएस की परीक्षा के दौरान  हिंदी साहित्य का चयन किया l
इस दौरान संत कबीर के जीवन से जुड़े पहलुओं का बड़ी गहराई से अध्यन भी किया l आईएस की परीक्षा के दौरान कबीर जी के बारे में लिखते हुए मैं चयनित हुआ l कबीर के दर्शन को मानते हुए जो उनके विचारो पर विश्वास रखता है उसे कबीर पंथी माना जाता है l हिंदी साहित्य के पाठ्यक्रम में सबसे अधिक कबीर साहिब से प्रभावित हुआ l संत कबीर ने  जिस तरह  समाज में व्याप्त कुरूतियों को दूर करने का प्रयास किया वह केवल तात्कालिक समय एवं वर्तमान परिस्थितियों के अलावा आने वाले युगों युगों तक मानव समाज को दिशा दिखाने का कार्य करते रहेंगे l कबीर ज्ञान दृष्टा थे l उन्होंने अपने ज्ञान के जरिए समय से परे सदियों तक  होने वाली कुरूतियो को  समय रहते भांप लिया था l
उनके द्वारा लिखित रचना ढाई अक्षर प्रेम का पढ़े सो पंडित होय जैसी हजारों कविताओं के जरिए  उन्होंने गागर में सागर भरा l कविताओं के जरिए लेखन का यह प्रयास उन्होंने समाज में व्याप्त बुराइयों को दूर करने के लिए किया l कबीर साहब द्वारा रचित ग्रंथो को जीवन में आत्मसात करने की बात भी ओपी चौधरी ने कही l जन्म लेकर कोई पचास साल जीता है कोई साठ या  सत्तर साल जी कर दुनिया से विदा हो जाता है l मृत्यु के साथ इस नश्वर संसार से उसकी सभी स्मृतियां विलुप्त हो जाती है l कबीर जैसे विरले संत है जिनका जीवन जिनके विचार आज भी प्रासंगिक है और  सदियों तक प्रासंगिक रहेंगे l कबीर अपने विचारो के जरिए आज भी समाज में जीवित है l संगठन द्वारा किए जा रहे कार्यों की सराहना करते हुए कहा राष्ट्रीय स्तर पर कबीर जी के विचारों को प्रचारित करने के लिए किए जा रहे कार्य मानवता से जुड़े कार्य है l विश्व मे वैचारिक बदलाव लाना है तो कबीर के विचारो को सामने लाते हुए  आत्मसात करना होगा l इस तरह का कार्य करने के लिए संगठन का कार्य वंदनीय है l अपने  राजनैतिक जीवन के दौरान उनके बताए मार्ग का अनुसरण करते हुए समाज सुधार की दिशा में प्रयासरत रहूंगा l

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here