जिंदल स्टील एंड पावर के पतरातू संयंत्र में मनाया गया गणतंत्र दिवस…

0
26

प्लांट प्रमुख आर.के.अजमेरिया ने किया ध्वजारोहण…चेयरमैन नवीन जिंदल का सन्देश सुनाया

 झारखंड (पतरातू )27 जनवरी।  26 जनवरी को जिंदल स्टील एंड पावर के पतरातू संयंत्र में गणतंत्र दिवस उत्साह के साथ मनाया गया। कार्यक्रम का आयोजन भव्य रूप से किया गया। कार्यक्रम का शुभारम्भ मुख्य अतिथि पतरातू संयंत्र के प्लांट प्रमुख श्री आर.के.अजमेरिया ने ध्वजारोहण कर किया। इसके बाद सभी ने एक स्वर में राष्ट्र गान गाया। मुख्य अतिथि ने परेड की सलामी ली। इस कार्यक्रम का आयोजन ओ.पी. जिंदल स्कूल के परिसर में प्रातः 8:30 में किया गया।

 











ध्वजारोहण के उपरांत प्लांट प्रमुख ने कंपनी के चेयरमैन श्री नवीन जिंदल का सन्देश पढ़कर सुनाया। अपने सन्देश में कंपनी के चेयरमैन श्री जिंदल ने ‘सभी को 74वें गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं दी। उन्होंने इस अवसर पर संविधान निर्माताओं और राष्ट्र की तरक्की में योगदान करने वाले सभी महान व्यक्तियों को नमन किया और कहा की राष्ट्र निर्माण में अपना हरसंभव योगदान देने के लिए जे.एस.पी. समूह प्रतिबद्धता के साथ समर्पित है। आज जिंदल स्टील एंड पाॅवर, नए मिशन, विजन और वैल्यूज के साथ नई बुलंदियों तक पहुंचने की तैयारी में है। इसमें जेएसपी परिवार के सभी सदस्यों का महत्वपूर्ण योगदान है। जेएसपी समूह ने आज देश-विदेश में 1 लाख करोड़ रूपये से अधिक का निवेश कर लगभग 3 लाख लोगों के लिए रोजगार के अवसर प्रदान किए हैं। समूह का लक्ष्य 2025 तक 15 मिलियन टन और 2030 तक 30 मिलियन टन स्टील उत्पादन क्षमता हासिल करना है। साथ ही वर्ष 2035 तक हम नेट जीरो एमिशन का लक्ष्य भी हासिल करने की तैयारी में हैं। कंपनी क्लीन कोल तकनीक के तहत कोल गैसीफिकेशन प्लांट-डीआरआई के माध्यम से इस्पात उत्पादन बढ़ाने की पहल कर रही है। अंगुल में स्थापित समूह के सीजीपी-डीआरआई संयंत्र में देश-विदेश से लोेग आकर स्टील उत्पादन की इस तकनीक पर शोध कर रहे हैं। हम अपने अन्य संयंत्रों में भी इस तकनीक का विस्तार करने पर विचार कर रहे हैं। काॅमर्शियल कोल माइनिंग के विस्तार से कोल गैसीफिकेशन योजना देश में स्टील के साथ पाॅवर और कृषि क्षेत्र में भी नए आयाम स्थापित करेगी और आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में मील का पत्थर साबित होगी। कार्बन फुटप्रिंट घटाने के लिए कंपनी अपना 40 प्रतिशत से अधिक स्टील उत्पादन इलेक्ट्रिक आर्क फर्नेस के माध्यम से कर रही है। श्री जिंदल ने विगत वर्ष अर्जित की गई उपलब्धियों के लिए समूह के सभी संयंत्रों की टीम को बधाई देते हुए आगे और भी बेहतर करने के लिए प्रेरित किया। जे.एस.पी. सामुदायिक उत्थान को सर्वोच्च प्राथमिकता देता है। कंपनी की समाज सेवा शाखा जे.एस.पी. फाउंडेशन ने श्रीमती शालू जिन्दल जी के नेतृत्व में ह्यूमन डेवलपमेंट इंडेक्स सुधारने का सराहनीय कार्य किया है। फाउंडेशन स्वास्थ्य, स्वच्छ पेयजल, सैनिटेशन, शिक्षा, पोषण, महिला सशक्तीकरण, गरीबों और जरूरतमंदों को सहयोग, पर्यावरण एवं कृषि, खेल, कला-संस्कृति आदि क्षेत्र में अपने विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से लगभग 1 करोड़ लोगों के जीवन में सकारात्मक बदलाव लाने का काम कर रहा है। श्री जिंदल ने कहा की कोई भी संस्था तभी आगे बढ़ती है, जब उसके सदस्य निरंतर अपना ज्ञान बढ़ाते रहें। उन्होंने एक्सट्रीम ओनरशिप और वन थिंग के मह्त्वाओं को पुनः बताते हुए इसे अपनाये रखने के लिए निर्देशित किया’।

राष्ट्रीय ध्वज दिवस
जेएसपी के चेयरमैन नवीन जिंदल ने अपने संदेश में कहा कि ‘देश के प्रत्येक नागरिक को गर्व के साथ तिरंगा फहराने का अधिकार हासिल हुए 19 वर्ष बीत चुके हैं। हमारे देश में कई दिवस मनाए जाते हैं, लेकिन अब तक राष्ट्रीय ध्वज दिवस नहीं है। हमें साल का एक दिन राष्ट्रीय ध्वज को समर्पित करने के बारे में भी सोचना चाहिए। दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र होने के नाते भारत का भी राष्ट्रीय ध्वज दिवस होना चाहिए और इसके लिए तिरंगे की आजादी की तारीख, यानी 23 जनवरी का दिन सबसे उपयुक्त होगा। 23 जनवरी से 26 जनवरी के बीच हर साल पूरे देश में राष्ट्रीय ध्वज सप्ताह मनाया जाना चाहिए। इससे देश के सभी नागरिकों को तिरंगे के साथ अपने रिश्ते को अभिव्यक्त करने का अवसर मिलेगा’।

चेयरमैन सन्देश के उपरांत मुख्य अतिथि प्लांट प्रमुख श्री अजेमरिया ने अपने सन्देश में ‘पतरातू संयंत्र के उपलब्धियों से अवगत कराया और टीम को बधाइयाँ दी। उन्होंने राष्ट्रीय ध्वज के महत्वों को बताया और कंपनी में हो रही विकाश के बारे में बताया। उन्होंने सी.एस.आर. के द्वारा किये जा रहे सामाजिक विकास कार्यक्रमों के बारे में भी बताया’।

कार्यक्रम के दौरान ओ.पी. जिंदल स्कूल और .पी. जिंदल कम्युनिटी कॉलेज के बच्चों द्वारा कई सांस्कृतिक कार्यक्रमों को प्रस्तुतु किया गया।













LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here