लापता बिल्डर वकील अंसारी के हत्या के मामले में बड़ा खुलासा… आरोपी की पत्नी ने पहले प्रेम जाल में फंसाया फिर करने लगे ब्लैकमेलिंग, कामयाब नहीं हुए तो कर दी हत्या, पिछले दो माह से गायब था वकील अंसारी.. आरोपी पति पत्नी व उनके एक साथी गिरफ्तार

0
24

बिलासपुर। न्यायधानी के बिल्डर वकील अंसारी की फिरौती के लिए अपहरण के बाद हत्या कर दी गई। वकील अंसारी पिछले दो माह से गायब था। उसकी पत्नी की शिकायत पर अपहरण व फिरौती माँगने का एफआईआर दर्ज कर पुलिस जांच कर रही थी। मामले में पुलिस ने आरोपी पति पत्नी व उनके एक साथी को गिरफ्तार किया है। आरोपी पहले ब्लैकमेंल कर वकील अंसारी से रकम वसूलना चाहते थे। असफल रहने पर उन्होंने वकील की हत्या कर दी थी। मामला सकरी थाना क्षेत्र का है।

सकरी थाना क्षेत्र के आसमां सिटी कालोनी निवासी 35 वर्षीय वकील अंसारी बिल्डर व जमीन का कारोबार करते थे। उनका सिविल लाइन थाना क्षेत्र के मंगला चौक में ऑफिस था। वे 3 नवंबर को अपनी पत्नी को घर से यह बोल कर निकले थे कि वो अंबिकापुर में अपने मित्र आरएस बागड़िया से पैसो व व्यापार के बारे में बातचीत करने के लिए जा रहे हैं। 5 नवंबर तक वापस नही आने पर उनकी पत्नी अकबरी खातून ने सकरी थाना में गुमशुदगी दर्ज करवाई थी। पुलिस उनकी तलाश कर रही थी। अंबिकापुर के एक होटल में उनकी सीसीटीवी में एक युवती के साथ होटल के कमरे से निकल कर रिसेप्शन में आने की फुटेज पुलिस को मिली थी। पुलिस को जांच में पता चला कि वकील अंसारी एक युवती के साथ होटल में रुके हुए थे। वे एक अन्य होटल भी गए थे पर उनके साथ कि युवती का आईडी कार्ड माँगने पर वह वहां नही रुके थे। इसलिए पुलिस पहले मामले को संदिग्ध मान रही थी। इसी बीच वकील के मित्र आरएस बगड़िया ने फोन कर उनकी पत्नी को बताया कि उनके पास वकील अंसारी का फोन आया था। वे काफी डरे हुए भी थे और उन्होंने कहा है कि मेरा अपहरण हो गया है,मैं खतरे में हु और दस लाख तैयार रखना। यह जानकारी आरएस बागड़िया से मिलने पर वकील अंसारी की पत्नी अकबरी खातून ने पुलिस से संपर्क किया। जिस पर 8 नवंबर को पुलिस ने अपहरण का अपराध दर्ज कर वकील की तलाश शुरू की।











इस दौरान वकील अंसारी का फोन तो बंद था पर उसके एटीएम व फोन पे से देश के अलग अलग जगहों पर राशि का आहरण व भुगतान हो रहा था। जिस पर पुलिस ने तकनीकी जांच कर अंबिकापुर,कांकेर, कोंडागांव, हैदराबाद, नागपुर व आगरा, मथुरा,बिहार में दबिश दी थी। तकनीकी जाँच में पुलिस को पता चला कि जिन जिन स्थानो पर वकील अंसारी के एटीएम से आहरण या भुगतान हुआ है वहां वहां पर कुछ संदिग्ध नंबर हमेशा एक्टिव व उपस्थित थे। नम्बरो का डिटेल निकाल कर पुलिस टीम ने लोकेशन के आधार पर भिलाई से तीन लोगों को हिरासत में लिया। तीनो ने हत्या का अपराध स्वीकार कर लिया।

हत्या की वजह
हत्या का मुख्य आरोपी हेमंत साहू भिलाई का आरोपी है। वह जुआ सट्टा में संलिप्त रहता है। जिसके चलते वह कर्ज में डूबा हुआ था। भिलाई में तगादेदारों से परेशान होकर वह अपनी पत्नी संतोषी उर्फ पूजा वर्मा के साथ अक्टूबर माह से बिलासपुर आकर नौकरी की तलाश में जुटा हुआ था। इसी बीच एक दिन हेमंत साहू व संतोषी वर्मा भाटापारा के पेट्रोल पंप में वकील अंसारी से मिले । वकील अंसारी ने उन्हें पेट्रोल पंप मालिक होने की बात बताई। और नौकरी देने की पेशकश की। उसी दिन से पति-पत्नी ने प्लानिंग कर ली कि संतोषी उर्फ पूजा वर्मा वकील को प्रेम जाल में फ़ासेगी फिर योजनाबद्ध तरीके से उसे ब्लैकमेंल कर दोनो पति पत्नी मोटी रकम एठेंगे। 3 नवंबर को तय योजना के अनुसार वकील अंसारी के साथ संतोषी वर्मा उसके वाहन में बैठ कर अंबिकापुर जाने के लिए निकली। पीछे पीछे हेमंत साहू व गणेश यादव भी अपने डस्टर कार में निकले। रास्ते मे ही वकील अंसारी को पकड़ कर ब्लैकमेंल करने की योजना थी। पर वकील तेजी से गाड़ी चला कर आगे निकल गया। और दोनो डस्टर में पीछे ही रह गए। अंबिकापुर में संतोषी वर्मा व वकील अंसारी एक होटल में रुक गए।

वापसी में 4 नवंबर को उनकी गाड़ी को पीछा करते करते हेमंत साहू व गणेश यादव बिलासपुर पहुँचे। यहां सेंदरी मोपका बाई पास में कोनी रोड़ में वकील अंसारी द्वारा अपनी कार को रोकने पर आरोपी वकील अंसारी व गणेश यादव वकील अंसारी के कार के पास पहुँचे और वकील अंसारी को संदिग्ध स्थिति मे देखकर मेरी पत्नी के साथ अवैध संबंधों बनाये हो बोलकर धमकी देते हुए ब्लैकमेल कर पैसो की मांग करने लगे। जिसका विरोध करने पर आरोपियो व वकील अंसारी में मारपीट हुई। और आरोपियों द्वारा साथ रखें पेपर कटर से वकील अंसारी पर हमला कर दिया गया। साथ ही उसे अपनी डस्टर कार में भरकर बिलासपुर से बलौदाबाजार होते हुए कोंडागांव जिले के केशकाल घाटी ले गए। रास्ते मे ही वकील अंसारी से उसका एटीएम कार्ड,फोन पे का यूपीआई कोड प्राप्त कर लिए। रास्ते मे वकील अंसारी की मौत हो गई। जिसके बाद उसे केशकाल घाटी मे उसकी लाश फेंक दिया। पुलिस को गुमराह करने के लिए उसके एटीएम से जगह जगह घूम घूम कर रकम का आहरण भी कर रहे थे। पुलिस द्वारा कोंडागांव पुलिस से संपर्क करने पर पता चला कि दिनांक 11 दिसंबर 2022 को केशकाल घाटी में एक अज्ञात युवक का क्षत विक्षत हालत में शव मिला था। जिस पर मर्ग कायम कर विवेचना की जा रही थी। शव की फ़ोटो मंगवा कर पहचान करवाने पर वकील की पत्नी ने शव की कलाई में बंधी घड़ी से अपने पति की पहचान की।

पुलिस ने मामले में आरोपी हेमंत साहू 33 वर्ष, संतोषी उर्फ पूजा वर्मा 35 वर्ष, गणेश यादव 22 वर्ष सभी निवासी भिलाई को गिरफ्तार कर न्यायालय से पूछताछ हेतु पुलिस रिमांड मांगा है।

देखें पुलिस की प्रेस विज्ञप्ति
थाना सकरी वकील अंसारी अपहरण मामले का खुलासा-













LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here