रायपुर। आयकर विभाग द्वारा रायपुर, दुर्ग, भिलाई के बिल्डरों-ट्रांसपोर्टरो-फाइनेंसरो के 21 ठिकानों पर आयकर की दबिश दी गई है। वहीं आयकर विभाग द्वारा छापेमार कार्रवाई का आज दूसरा दिन है। आयकर सूत्रों का कहना है कि इन कारोबारियों से बड़ी मात्रा में टैक्स चोरी का अंदेशा है। इनके ठिकानों पर जाचं के दौरान आवश्यक दस्तावेज भी जब्त हुए है। आने वाले एक से दो दिन में कार्रवाई पूरी होने की संभावना है। बताया जा रहा है कि काफी समय से आयकर विभाग द्वारा बिल्डरों पर नजर रखी जा रही थी। गौरतलब है कि इन कारोबारी समूहों से आयकर विभाग को तीन करोड़ नकदी के साथ ही भारी मात्रा में ज्वेलरी भी मिली है। आयकर अफसरों द्वारा इस संबंध में पूछताछ की जा रही है। जानकारी के अनुसार रविवार तक यह जांच पूरी होने की संभावना है।

इन समूहों के यहां हुई कार्रवाई-
आयकर विभाग के अधिकारी सिंघानिया बिल्डकान के संचालक सुबोध सिंघानिया, स्वास्तिक ग्रुप के संचालक नरेंद्र अग्रवाल, श्री स्वास्तिक ग्रुप के संचालक सुनील साहू, रोसबी रिसार्ट के संचालक महावीर अग्रवाल, फाइनेंसर और जमीन कारोबारी कमलेश बैद के घर व ठिकानों पर दस्तावेजों की जांच में जुटे हुए हैं। अधिकारियों का एक समूह होटल लैंडमार्क में भी जांच के लिए पहुंचा है। आयकर विभाग की टीम ने कारोबारी समूहों से व्यवसाय से संबंधित दस्तावेजों के अलावा परिवार के सदस्यों के नाम खरीदी संपत्ति के ढेरों दस्तावेजों को जब्त किया है। जमीन कारोबारी कमलेश बैद के राज्य सरकार के प्रभावशाली लोगों से संबंध होने की बात सामने आई है।

इंदौर-भोपाल व रायपुर के आयकर अफसरों की 150 सदस्यीय टीम-
इस कार्रवाई में इंदौर-भोपाल और रायपुर के लगभग 150 आयकर अफसरों की टीम शामिल है। इनकी सुरक्षा में 100 सीआरपीएफ के जवान तैनात हैं। आयकर विभाग की अलग-अलग टीमों ने शुक्रवार सुबह एक साथ कई ठिकानों पर कार्रवाई आरंभ की।

परिचितों से भी हो रही पूछताछ
कारोबारी समूहों के परिचितों और बिजनेस पार्टनरों से भी पूछताछ की जा रही है। आयकर विभाग की यह कार्रवाई शनिवार देर रात या रविवार दोपहर तक पूरी होने की संभावना है। सूत्र बता रहे हैं कि इस कार्रवाई में बड़ी मात्रा में टैक्स चोरी का राजफाश होने की संभावना है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here