रायगढ़ टॉप न्यूज 22 जनवरी । चेम्बर ऑफ कॉमर्स एण्ड इंडस्ट्रीज के प्रदेश उपाध्यक्ष सुशील रामदास ने रायगढ़ के बढ़ते वाणिज्यिक गतिविधियों के मद्देनजर कहा कि वर्ष 1998 में तत्कालीन रेल मंत्री द्वारा यहां कोचिंग रेल टर्मिनल का शिलान्यास किया गया था और उस हेतु 5 करोड़ रूपए की आउट टर्न स्वीकृति भी दी गयी थी। उसके पश्चात् राज्य सरकार ने भी टर्मिनल के लिए भूमि भी उपलब्ध करा दी। किन्तु आज पर्यंत रेल टर्मिनल नहीं बन पाया। ज्ञात हो कि रेल को बिलासपुर मंडल द्वारा देश में सबसे अधिक आय दिया जाता है। उसमें सबसे अधिक राजस्व रायगढ़ द्वारा दिया जाता है और साथ ही रायगढ़ छत्तीसगढ़ प्रांत से शुरू होने वाला सबसे बड़ा स्टेशन है। इसके अतिरिक्त यहां इस्पात और ऊर्जा के बड़े-बड़े संयंत्र स्थापित हैं, जो कि देश को राजस्व तो देते ही है। साथ ही साथ ये संयंत्र देश के हर कोने के लाखों लोगों के लिए रोजगार के संसाधन भी हैं। इसलिए यहां टर्मिनल बनाया जाना उपयुक्त है। इसके अतिरिक्त रायगढ़ के लिए बिलासपुर जोन मुख्यालय से भी कुछ दिनों पूर्व गुड्स साइडिंग एवं रेल टर्मिनल हेतु 45 करोड़ रूपए का संयुक्त प्रस्ताव भेजा गया है।

 

अतः यहां टर्मिनल बनाए जाने से बिलासपुर से इन्दौर जाने वाली नर्मदा एक्सप्रेस, बिलासपुर नागपुर इंटरसिटी, बिलासपुर रींवा पैसेंजर, बिलासपुर चेन्नई एक्सप्रेस, बिलासपुर भोपाल एक्सप्रेस, बिलासपुर पुणे एक्सप्रेस, बिलासपुर एर्नाकुलम एक्सप्रेस, बिलासपुर नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस, बिलासपुर त्रिवेल्ली एक्सप्रेस, बिलासपुर तिरूपति एक्सप्रेस, बिलासपुर भगत की कोठी एक्सप्रेस, बिलासपुर बिकानेर एक्सप्रेस, बिलासपुर हापा एक्सप्रेस जैसी अनेको महत्त्वपूर्ण गाड़ियाँ यहां से चलने लगेंगी। वहीं रायगढ़ राज परिवार के उत्तराधिकारी द्वारा बताया गया कि वर्ष 1890 में तत्कालीन राजा ने आवश्यकतानुसार 35 मील जमीन ब्रिटीश सरकार को दी गयी थी। उस जमीन के एवज में रेल लाईन निर्माण करने वाली बी.एन.आर. कम्पनी से यह अनुबंध हुआ था कि इस रूट से जो भी गाड़ियां जायेंगी उनका स्टॉपेज रायगढ़ में होगा, किन्तु बड़े खेद का विषय है कि रेल प्रशासन द्वारा यहां से गुजरने वाली 11 ट्रेनों का स्टॉपेज नहीं दिया गया। अतः रेल प्रशासन और जन प्रतिनिधियों से आग्रह है कि रायगढ़ के वाणिज्यिक गतिविधियों को और अधिक गति देने तथा यहां के जन सामान्य को सुविधा उपलब्ध कराने के दृष्टि से रायगढ़ में कोचिंग टर्मिनल का शीघ्र निर्माण कराया जाए एवं रायगढ़ होकर गजरने वाली सूरत मालदा टाऊन एक्सप्रेस, पुरी वलसाड एक्सप्रेस, हावड़ा शिरडी एक्सप्रेस, हैदराबाद रक्सौल एक्सप्रेस, सिकंदराबाद दरभंगा एक्सप्रेस, हटिया पुणे एक्सप्रेस, हावड़ा कुर्ला ज्ञानेश्वरी एक्सप्रेस, हावड़ा मुंबई विकली एक्सप्रेस, एस.एच. नादेड़ संतरागाछी एक्सप्रेस, संतरागाछी पोरबंदर एक्प्रेस, पुणे संतरागाछी हमसफर एक्सप्रेस आदि 11 गाड़ियों का स्टॉपेज दिया जाए।

 

इस मांग में चेम्बर ऑफ कॉमर्स से शक्ति अग्रवाल (प्रदेश महामंत्री चेम्बर ऑफ कामर्स एण्ड इंडस्ट्रीज), राजेंद्र कुमार अग्रवाल (चेम्बर), राजेश अग्रवाल (चेम्बर), मनोज बेरीवाल (टिम्बर), अशोक अग्रवाल, अशोक जैन, राजकुमार अग्रवाल, ललित बोंदिया, हीरा मोटवानी, पंकज गोयल (श्रीतारा होटल), बजरंग अग्रवाल (जुटमिल), बजरंग महामिया, मनोज अग्रवाल (होंडा), सुरेश अग्रवाल (बट्टीमार) और रवि अग्रवाल आदि ने भी कहा कि चेम्बर के सभी सदस्यों और पदाधिकारियों द्वारा संयुक्त रूप से उपरोक्त मांगों को लेकर प्रयास किया जा रहा है, ताकि यह सुविधा रायगढ़ को प्राप्त हो सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here