जिला आयुर्वेद चिकित्सालय में सियान दिवस के दिन आयोजित हुआ टेस्ट

रायगढ़ टॉप न्यूज 18 जनवरी 2024। संचालक आयुष इफ्फत आरा के निर्देशन एवम जिला आयुर्वेद अधिकारी डॉ. मीरा भगत के मार्गदर्शन में शासकीय आयुर्वेद जिला चिकित्सालय,रायगढ़ में गुरुवार को संचालित सियान जतन क्लीनिक में नि:शुल्क हड्डियों के आन्तरिक स्वस्थ की जांच बी.एम.डी टेस्ट (बोन मिनरल डेनसीटी टेस्ट) का नि:शुल्क आयोजन किया गया। जिसमें 61 वृद्धजन लाभान्वित हुए। चिकित्सालय प्रभारी डा नीरज कुमार मिश्रा ने बताया यह आयोजन ओसटियोप्रोसिस से बचाव के लिए अत्यन्त ही महत्वपूर्ण है। वृद्धजनों में होने वाले भविष्य के अस्थिगत रोगों पर निश्चय ही लगाम लगाया जा सकता है।चिकित्सालय मे पदस्थ डा रविशंकर पटेल,डा विजय लक्ष्मी चन्द्रा,योग चिकित्सक डा बारला एवं सोनु महंत व चिकित्सालय टीम का सक्रिय योगदान रहा।

आयुर्वेद अधिकारी डॉ नीरज मिश्रा ने बताया कि बोन मिनरल डेंसिटी टेस्ट (बीएनडी) अक्सर ऑस्टियोपोरोसिस जैसे हड्डी संबंधी रोग का पता लगाने के लिए किया जाता है। जो सुरक्षित, दर्द रहित और जल्दी होने वाले टेस्ट है। इनके माध्यम से हड्डियों की मजबूती को मापा जाता है ऐसे मरीज जो पीठ में दर्द या फिर कमर के निचले भाग में लंबे समय से दर्द से परेशान हैं उनके लिए यह जांच आयोजित किया गया था। इससे हड्डियों में मौजूद कैल्शियम व अन्य मिनरल्स की जानकारी मिलती है। उन्होंने बताया कि पचास वर्ष से अधिक आयु के व्यक्ति, कम आयु में गर्भाशय निकलवा चुकी महिलाओं, अक्सर शरीर की हड्डियों में दर्द, जोड़ों में दर्द,पीठ में दर्द और जल्द ही थकान होने लगती है। ऐसे मरीजों को विशेषज्ञ डॉक्टर बोन डेंसिटी टेस्ट कराने की सलाह देते हैं। इसके साथ ही वे मरीज जो लंबे वक्त से स्टेरॉयड ले रहे हैं, मेटाबॉलिक बोन डिजीज के रोगियों की अचानक डाइट कम होने पर भी इस प्रकार की जांच कराई जा सकती है।

 

सियानों के लिए आयुर्वेद अस्पताल जतन क्लीनिक–

सितंबर 2022 से आयुष विभाग रायगढ़ के अधीनस्थ संचालित शासकीय जिला आयुर्वेद चिकित्सालय में सियान जतन क्लीनिक प्रत्येक माह के गुरूवार को वृद्ध नागरिकों के लिए चलाया जा है। बुजुर्गों को लंबी कतार और परेशानी से निजात दिलाने के लिए राज्य सरकार ने सियान जतन क्लीनिक की शुरुआत की है। जिसमें आयुर्वेद, पंचकर्म चिकित्सा, पैथोलॉजी सुविधाएं मौजूद रहती है।आयुर्वेद चिकित्सालय के अतिरिक्त सियान जतन क्लीनिक आयुष विभाग के सभी संस्थाओ में संचालित है। इस क्लीनिक के माध्यम से अभी तक जिला आयुर्वेद चिकित्सालय में हज़ारों सियानों (बुजुर्गों) ने लाभ लिया है।

 

जिला आयुर्वेद अधिकारी डॉ. मीरा भगत सियान जतन क्लीनिक के बारे में कहती हैं : “वृद्धावस्था में अपने स्वास्थ्य के सुरक्षा की चिंता वृद्धजनों को सबसे अधिक रहती है।उनके लिए यह कोई वरदान से कम नहीं। कोरोना काल में भी यह चिकित्सालय निरंतर अपनी सेवा देता रहा। आयुर्वेदिक पद्धति से इलाज कराने वालों में बच्चों से लेकर युवा और वृद्ध भी हैं। एक विशेष दिन को हमारे बुजुर्गों के लिए सुरक्षित रखना बड़ी बात है।बुजुर्गों के लिए इस प्रकार की व्यवस्था वो भी आयुर्वेद के क्षेत्र में बेहतरीन शुरुआत है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here