नई दिल्ली। भारत ने अहमदाबाद में खेले गए तीसरे और निर्णायक मैच में न्यूजीलैंड को 168 रन से रौंदकर तीन मैचों की टी20 सीरीज को 2-1 से अपने नाम की। मैच के हीरो रहे शुभमन गिल ने 68 गेंद पर 126 रन की नाबाद पारी खेली। वहीं, गेंदबाजी में हार्दिक ने कमाल करते हुए 4 ओवर में 16 रन देकर 4 विकेट लिए। भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 234 रन का विशाल स्कोर बनाया था। इसके जवाब में कीवी टीम 66 रन पर ही सिमट गई।

 

हार्दिक पांड्या ने ना सिर्फ गेंदबाजी में कमाल किया, उससे पहले टीम के लिए 17 गेंद पर 30 रन की कैमियों पारी भी खेली। वह धोनी की तरफ नबंर पांच पर बल्लेबाजी करने आए। मैच खत्म होने के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में हार्दिक ने कहा, “मुझे उस भूमिका को निभाने में कोई दिक्कत नहीं है, जो कहीं न कहीं माही (धोनी) निभाते थे। उस समय, मैं युवा था और पार्क के चारों ओर मार रहा था, लेकिन जब से वह चले गए हैं। अचानक से यह जिम्मेदारी मुझ पर आ गई है। मुझे इससे कोई आपत्ति नहीं है। हमें परिणाम मिल रहे हैं। अगर मुझे थोड़ा धीमा खेलना है तो कोई बात नहीं।”

धोनी की भूमिका में खुद को देखते हैं पांड्या
पांड्या ने कहा कि उनकी भूमिका उस भूमिका के समान है जिसे भारत के पूर्व कप्तान एमएस धोनी ने अपने अंतरराष्ट्रीय करियर के बाद के टीम के लिए निभाया। हार्दिक ने कहा कि उन्हें टीम की आवश्यकता के अनुसार अपने खेल में बदलाव करना होगा। इसके अवाला पांड्या ने कहा, “मैंने हमेशा छक्के मारने का आनंद लिया है, लेकिन मुझे अपने खेल में बदलाव करना होगा। मैंने साझेदारी में विश्वास किया है और मैं अपने साथी और अपनी टीम को कुछ आश्वासन और शांति देना चाहता हूं कि मैं वहां हूं।”

हार्दिक ने कहा, मैंने सीखा है कि कैसे दबाव को स्वीकार करना और उससे बाहर निकलना है और यह सुनिश्चित करना है कि सब कुछ अच्छा हो। हो सकता है कि इसके लिए मुझे अपना स्ट्राइक रेट कम करना पड़े। नई भूमिकाएं लेनी पड़े। मैं इसके लिए तैयार रहता हूं, मैं चाहता हूं नई गेंद की से गेंदबाजी करुं। साथ ही उस कठिन भूमिका को भी निभाऊं जब गेंदबाज दबाव में हों।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here