मनोरंजन

जीतेंद्र ने पूरी की जूनियर महमूद की ये इच्छा…कैंसर से जूझ रहे एक्टर से मिलने पहुंचे…7 भाषाओं में 265 फिल्मों के अनुभवी एक्टर की हालत नाजुक

नई दिल्ली। एक वक्त पर इंडस्ट्री के जाने-माने आर्टिस्ट रहे जूनियर महमूद पेट के कैंसर से अपनी जिंदगी की जंग लड़ रहे हैं. अस्पताल में जूनियर महमूद का इलाज चल रहा है. इस बीच उन्होंने सुपरस्टार जितेंद्र और अपने बचपन के दोस्त एक्टर सचिन पिलगांवकर से मिलने की इच्छा जताई थी. अब महमूद की ये इच्छा पूरी हो गई है.

 

एक ट्विटर यूजर ने जूनियर महमूद की पुरानी फोटो को शेयर करते हुए उनकी इच्छा के बारे में बात की थी. शख्स ने लिखा था, ‘जूनियर महमूद, जो कि बीते जमाने के सबसे प्यार चाइल्ड स्टार रहे हैं, अस्पताल में अपने स्टेज 4 कैंसर का इलाज करवा रहे हैं. उन्होंने जितेंद्र से मिलने की इच्छा जताई है, जिनके साथ उन्होंने कई फिल्मों में काम किया. और वो चाहते हैं कि उनके बचपन के दोस्त सचिन पिलगांवकर उनसे मुलाकात करने आएं. मैं जितेंद्र जी और सचिन जी से अनुरोध करता हूं कि उनकी इस इच्छा को पूरा कर दीजिए क्या पता ये उनकी आखिरी ख्वाहिश साबित हो.’

 

मिलने पहुंचे जितेंद्र-सचिन पिलगांवकर

इस ट्वीट के जवाब में सचिन पिलगांवकर की बेटी श्रेया ने बताया कि उनके पिता जूनियर महमूद के साथ कॉन्टेक्ट में बने हुए हैं और उनसे मिलकर भी आए हैं. वहीं वेटेरन एक्टर जितेंद्र की फोटोज भी सामने आ गई हैं. उन्हें जूनियर महमूद से मुलाकात करते देखा जा सकता है. वायरल तस्वीरों में से एक में जितेंद्र, जूनियर महमूद से उनका हाल ले रहे हैं. उनके साथ एक्टर-कॉमेडियन जॉनी लीवर भी खड़े हैं. वहीं दूसरी में जितेंद्र, महमूद के सिर पर हाथ रखे खड़े हैं और जॉनी से कुछ कह रहे हैं. जूनियर महमूद से मुलाकात के बाद जितेंद्र काफी इमोशनल भी हुए. उनकी आंखों में महमूद की हालत देखकर आंसू भी आ गए थे.

 

कौन हैं जूनियर महमूद?

जूनियर महमूद का असली नाम नईम सय्यद है. उन्होंने बॉलीवुड में अपने करियर की शुरुआत बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट की थी. महमूद एक जमाने में इंडस्ट्री का जाना-माना नाम थे. उनको ‘बचपन’, ‘गीत गाता चल’, ‘कटी पतंग’, ‘मेरा नाम जोकर’, ‘ब्रह्मचारी’ संग अन्य फिल्मों में देखा गया था. उनके साथ दोस्त सचिन पिलगांवकर को भी कई फिल्मों में देखा गया था. दोनों की जोड़ी काफी सफल रही थी.

मास्टर राजू रोजाना जूनियर महमूद का हाल लेने पहुंच रहे हैं. उन्होंने ही अपने पोस्ट के जरिए दुनिया को जूनियर महमूद की खराब हालत की खबर दी थी. एक्टर संग फोटो शेयर कर मास्टर राजू ने पोस्ट में लिखा था, ‘जूनियर महमूद जी के पेट के कैंसर का पता चला है. कृपया उसके लिए प्रार्थना करें.’ इसके बाद जॉनी लीवर, जूनियर महमूद की मदद को आगे आए थे. इस मुश्किल वक्त में महमूद के करीबी दोस्त सलाम काजी भी उनके साथ हैं.

इसके बाद एक्टर तुषार कपूर ने पिता जीतेंद्र और दिग्गज एक्टर जूनियर महमूद की मुलाकात की न्यूज फैंस के साथ शेयर की है, जो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है.

भाई के साथ जाते थे सेट पर
नईम सैय्यद यानी जूनियर महमूद ने 7 भाषाओं में 265 से भी ज्यादा फिल्मों में काम किया है. साथ ही कई मराठी फिल्में भी निर्देशित की हैं. ‘ब्रह्मचारी’, ‘दो रास्ते’, ‘आन मिलो सजना’, ‘हाथी मेरे साथी’, ‘कटी पतंग’, ‘हरे राम हरे कृष्णा’, ‘जौहर महमूद इन हॉन्ग कॉन्ग’, ‘बॉम्बे टू गोवा’, ‘गुरु और चेला’ आदि उनकी कुछ खास फिल्में रहीं. जन्म मुंबई में 15 नवम्बर 1956 को हुआ था. नईम के बड़े भाई फिल्म सेट पर फोटोग्राफी का काम करते थे. ऐसे में नईम भी सेट पर उनके साथ जाते रहते थे.

दरअसल, खालिद मोहम्मद द्वारा एक्स पर शेयर किए गए ट्वीट में लिखा गया, गुजरे जमाने के प्यारे बाल कलाकार जूनियर महमूद चौथी स्टेज के कैंसर के कारण अस्पताल में एडमिट हैं. उन्होंने जीतेंद्र से मिलने की इच्छा जाहिर की है. वहीं इसकी इच्छा बचपन के दोस्त सचिन पिलगांवकर के साथ जाहिर की थी. कृपया जीतेंद्र साहब और सचिन जी उनकी इच्छा पूरी करें. इस ट्वीट पर सचिन पिलगांवकर की बेटी श्रेया पिलगांवकर ने लिखा, पापा उनसे जुड़े हुए हैं और अस्पताल में आज उनसे मिले.

 

 साल में शुरू कर दी थी एक्टिंग
जूनियर महमूद ने काफी कम उम्र में ही एक्टिंग की दुनिया में कदम रख लिया था. एक दफा जब वे अपने भाई के साथ एक फिल्म के सेट पर थे तो वहां एक चाइल्ड एक्टर पर सीन शूट किया जा रहा था. वह बच्चा बार बार रीटेक कर रहा था. ऐसे में वहां खड़े महमूद ने कहा कि इतना सा डायालॉग नहीं बोल पा रहा. यह सुनकर निर्देशक ने कहा कि अगर तुम बोल सकते हो तो मैं तुम्हें मौका दूंगा. बस, यहीं से जूनियर महमूद का फिल्मी सफर शुरू हुआ।

 

महमूद ने खुद दिया था टाइटल
साल 1969 में आई फिल्म ‘सुहाग रात’ में पहली दफा नईम को महमूद के साथ काम करने का मौका मिला था. इसके बाद महमूद उन्हें अच्छे से पहचानने लगे थे. एक बार महमूद ने अपनी बेटी की बर्थडे पार्टी पर नईम को भी बुलाया. वहां नईम ने महमूद के फेमस गाने ‘हम काले हैं तो क्या हुआ दिलवाले हैं…’ पर दिल खोलकर डांस किया. उन्होंने महमूद जैसे ही हाव भाव दिखाए और वहां मौजूद सभी मेहमानों को खूब हंसाया. नईम का यह टैलेंट देखकर महमूद काफी प्रभावित हुए और उन्हें ‘जूनियर महमूद’ का टाइटल दे दिया।

R.O. No. 12710/ 17

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button