रायगढ़ टॉप न्यूज 2 जनवरी। विगत दिवस जिंदल आदर्श ग्राम्य भारती उ. मा. वि. किरोड़ीमलनगर में खेलों का महाकुम्भ द्विदिवसीय वार्षिक क्रीड़ा उत्सव ‘‘दंभ’’ का शुभारंम मुख्य अतिथि विजय कुमार अग्रवाल (चेयरमेन) के कर कमलों से किया गया। मुख्य अतिथि द्वारा ध्वजारोहण कर तथा प्रतिभागी छात्र-छात्राओं को शपथ दिलाकर व हायर सेकेण्डरी के छात्र-छात्राओं द्वारा अतिथियों के सम्मान हेतु स्वागत गीत एवं छात्राओं द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम देकर प्रारंभ किया गया। क्रीड़ा प्रतियोगिता का शुभारंभ मुख्य अतिथि द्वारा मशाल प्रज्ज्वलित कर किया गया। उक्त द्विदिवसीय क्रीड़ा उत्सव में विद्यालय के चारों सदनों (ईस्ट, वेस्ट, नार्थ, साउथ) के कुल 1356 प्रतिभागियों के मध्य विभिन्न प्रकार के सामूहिक एवं एकल खेल प्रतियोगिता का भव्य शुभारंभ किया गया। इस द्विदिवसीय खेल महोत्सव के प्रथम दिवस में क्रिकेट, हैंड़बॉल, व्हालीबॉल, रस्साकस्सी, ऊँची कूद, लंबी कूद तथा द्वितीय दिवस में 100 तथा 200 मी. दौंड, रिले रेस, खो-खो, कबड्डी, डॉजबाल, का आयोजन चारों सदनों के प्रतिभागियों के मध्य आयोजित हुआ।

उक्त अवसर पर मुख्य अतिथि ने खेल उत्सव के आयोजन की सार्थकता पर अपना अमूल्य विचार व्यक्त करते हुए कहा कि विद्यार्थी जीवन में ज्ञानार्जन के साथ-साथ खेल-कूद का भी विशेष महत्व है। खेलों से हममें विभिन्न मानवीय गुण यथा सहनशीलता धैर्य अनुशासन सहिष्णुता भाईचारा तथा मैत्री आदि भावनाओं का विकास होता है। मानव जीवन का प्रमुख उद्देश्य व्यक्ति का सर्वंागीण विकास करना है और व्यक्ति को शारीरिक, मानसिक, भावात्मक तथा नैतिक दृष्टि से सामथ्र्यवान बनाने में खेल की अह्म भूमिका है। राज्य एंव राष्ट्रीय स्तर पर चयनित प्रति भागी छात्र- छात्राओं को बधाई देते हुए कहा खेलकूद हमें समय बद्धता, धैर्य, अनुशासन, समूह भावना व लगन सिखाते हैं। यदि हम खेल का नियमित अभ्यास करें तो हम अधिक सक्रिय और स्वस्थ रह सकते हैं। खेल हमारी शारीरिक क्षमता और कौशल को सुधारने और बनाये रखने में मदद करता है।

विद्यालय के ऊर्जावान प्राचार्य श्री सतीश कुमार पाण्डेय ने अपने ओजस्वी उद्बोधन में क्रीड़ा को छात्रों के शारीरिक व मानसिक विकास के लिए अनिवार्य बताया। उन्होंने खेल को उत्तम जीवन की आधारशीला निरुपित किया। उन्होंने खेल कूद से होने वाले विविध लाभों का बखान करते हुए कहा कि ख्ेाल-कूद से न केवल हमारा शरीर स्वस्थ रहता है बल्कि यह हमें मानसिक रुप से भी प्रसन्न रखता है। शरीर को स्वस्थ रखने के लिए खेल अथवा व्यायाम की उतनी ही आवश्यकता है जितना कि जीवन को जीने के लिए भोजन व पानी की। खेलों में भाग लेने से सबसे पहले तो हमारे स्वास्थ्य पर उŸाम प्रभाव पड़ता है। इसके अलावा हमारे शरीर में रक्त का परिसंचरण भी सुधर जाता है। उन्होनें विद्यालय के राष्ट्रीय व राज्य स्तर के खिलाड़ियों की जानकारी रेखांकित करते हुए बताया कि हमारे विद्यालय से स्काउट-गाइड के 3 प्रतिस्पर्धी अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर चयनित होकर न केवल नगर वरन् जिले को भी गौरवान्वित किया है।

समापन समारोह मेंे मुख्य अतिथि श्री गिरधारी यादव (टी.आई., कोतरा थाना, रायगढ़) के कर कमलो से समस्त खेलों में चारों सदनों के विजयी टीमों को पुरस्कार वितरित किया गया तथा क्रीड़ा ध्वजा का अवतलन कर संस्था प्रमुख को प्रदान किया गया। मुख्य अतिथि ने अपने उद्बोधन में कहा कि यहाँ के विद्याथिर्याें में जो जोश व उत्साह देखने को मिला वह मुझे कहीं नहीं मिला। यहाँ का वातावरण देखकर मुझे अपना बचपन याद आ रहा है। यदि शैक्षणिक व अशैक्षणिक क्षेत्रों में इसी प्रकार की मेहनत व लगन से शिक्षकों व छात्रों द्वारा अपने कर्तव्यों का निर्वहन किया जाये तो वह दिन दूर नहीं जब यह विद्यालय राष्ट्रीय स्तर पर अपना नाम रोशन करेगा।
श्री प्रणय कुमार अग्रवाल (वित्त व लेखाधिकारी) ने अपने उद्बोधन में खेलों की उपयोगिता पर प्रकाश डालते हुए कहा कि खेल सभी के जीवन में अहम भूमिका अदा करता है विशेष कर छात्र जीवन में। इसलिए हमें दिन का कुछ समय खेलकूद के लिए निकालना चाहिए। जीवन में खेल का शारीरिक स्वास्थ्य की प्राप्ति के साथ-साथ नौकरी आदि में भी बहुत सहायक होता है। इस क्रीड़ा उत्सव में चारों सदनों (ईस्ट, वेस्ट, नार्थ, साउथ) प्रत्येक सदन से 339 विद्यार्थियों ने अपनी सहभागिता दर्ज की। खेल प्रतियोगिता के समानान्तर योगा प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया तथा प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान प्राप्त विजेताओं को मुख्य अतिथि के कर कमलों से पुरस्कृत किया गया। विदित हों कि यह विद्यालय शैक्षणिक व अशैक्षणिक गतिविधियों के विकास हेतु निरन्तर प्रयासरत् है।
कार्यक्रम के अंत में श्रीमती प्रियंका जैन एवं श्रीमती ममता सिंह द्वारा धन्यवाद ज्ञापित किया गया। उक्त वार्षिक क्रीड़ोत्सव में समिति के वरिष्ठ उपाध्यक्ष श्री भरोसराम पटेल एवं सह-सचिव श्री अनुजराम सिदार एवं सदस्य श्री दिनेश कुमार उरांव उपस्थित रहे। द्विदिवसीय क्रीड़ोत्सव का भव्य समापन राष्ट्रगान के साथ हुआ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here