रायगढ़

देश के लड़कपन का क्या यही है भविष्य ?

भिखमपुरा के बाल सपेरों ने नही देखी स्कूल की दहलीज

रायगढ़ टॉप न्यूज 06 दिसंबर। रायगढ़ जिले के बरमकेला क्षेत्र के भिखमपुरा गांव के एक मोहल्ले सपेरों का बस्ती कहा जाता है । यहाँ सपेरों का परिवार बसते हैं इनका पेशा ही सांप पकडऩे तथा गांव गांव जाकर दिखाने व बदले में भिक्षा मांगने का रिवाज चल पड़ा है । परिवार में बूढ़े बच्चे या जवान सभी का सांप पकडऩा पुश्तेनी धंधा है । पढ़ाई लिखाई की ओर शायद ही इनकी ध्यान है । बच्चे स्कूल का गेट भी नही देखा । पढ़ाई की ओर इनका रूझान ही नहीं है । गांव गांव घूमना सांप पकडऩा , खेल दिखा कर पैसा कमाना ही इनका लक्ष्य है । सरकार सर्व शिक्षा अभियान चला कर सभी बच्चों के लिए अनिवार्य शिक्षा लागू करने के बाद भी इन घुमन्तु बच्चों के लिए शिक्षा धरि की धरी रह गई है । बरमकेला के भिखमपुरा गांव के सपेरों की बस्ती में शायद ही यह योजना लागू हो पाए क्योंकि सपेरों का परिवार अब तो आदत से ही मजबूर हैं । आखिर कौन संवारेगा इन नवनिहलों को ?

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close