छत्तीसगढ़

राजधानी रायपुर में दो दिवसीय आदिवासी महोत्सव, मुख्यमंत्री दस दिसम्बर को करेंगे शुभारंभ

केन्द्रीय मंत्रियों सहित प्रदेश सरकार के मंत्रीगण और अन्य वरिष्ठ जनप्रतिनिधि भी होंगे शामिल

आदिवासी साहित्य महोत्सव के साथ उत्तरपूर्वी राज्यों के  लोकनृत्य भी होंगे आकर्षण का केन्द्र

रायपुर, 06 दिसम्बर 2017/ राज्य सरकार के आदिम जाति और अनुसूचित जाति विकास विभाग द्वारा छत्तीसगढ़ के महान क्रांतिकारी, स्वतंत्रता संग्राम सेनानी अमर शहीद वीरनारायण सिंह के शहादत दिवस पर इस महीने की दस तारीख को राजधानी रायपुर में दो दिवसीय आदिवासी महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह दस तारीख को अपरान्ह 3 बजे यहां जीई रोड स्थित शासकीय विज्ञान महाविद्यालय के मैदान में मुख्य अतिथि के रूप में महोत्सव का शुभारंभ करेंगे। कार्यक्रम की अध्यक्षता केन्द्रीय जनजातीय कार्य मंत्री श्री जुएल उरांव करेंगे। महोत्सव का समापन समारोह 11 दिसम्बर को शाम 5 बजे आयोजित किया जाएगा। केन्द्रीय इस्पात राज्य मंत्री श्री विष्णुदेव साय समापन समारोह के मुख्य अतिथि होंगे।
          महोत्सव के दौरान दो दिवसीय आदिवासी साहित्य महोत्सव का आयोजन पंडित दीनदयाल उपाध्याय ऑडिटोरियम में किया जाएगा। इसके साथ ही वहां पर उत्तरपूर्वी राज्यों के सांस्कृतिक दलों के द्वारा अपने आंचलिक लोकनृत्य भी प्रस्तुत किए जाएंगे, जिनमें असम का बिहू नृत्य, त्रिपुरा का होजगिरी, मिजोरम का चेरव नृत्य सहित नागालैण्ड, मणिपुर, अरूणाचल प्रदेश और मेघालय के लोकनृत्य भी विशेष आकर्षण होंगे।  शुभारंभ समारोह में दस दिसम्बर को राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष श्री नंद कुमार साय और छत्तीसगढ़ विधानसभा के अध्यक्ष श्री गौरीशंकर अग्रवाल अति विशिष्ट अतिथि के रूप में शामिल होंगे। उनके साथ प्रदेश के स्कूल शिक्षा, आदिम जाति और अनुसूचित जाति विकास मंत्री श्री केदार कश्यप, गृह, जेल और लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री श्री रामसेवक पैकरा, कृषि और जल संसाधन मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल, पंचायत और ग्रामीण विकास मंत्री श्री अजय चंद्राकर, नगरीय प्रशासन और विकास मंत्री श्री अमर अग्रवाल, राजस्व और उच्च शिक्षा मंत्री श्री प्रेमप्रकाश पाण्डेय, खाद्य और ग्रामोद्योग मंत्री श्री पुन्नूलाल मोहले, लोक निर्माण, आवास और पर्यावरण मंत्री श्री राजेश मूणत, महिला और बाल विकास तथा समाज कल्याण मंत्री श्रीमती रमशीला साहू, संस्कृति पर्यटन और सहकारिता मंत्री श्री दयालदास बघेल, वन तथा विधि मंत्री श्री महेश गागड़ा और श्रम तथा खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्री भईयालाल राजवाड़े समारोह में अति विशिष्ट अतिथि के रूप में शामिल होंगे।
          आदिवासी महोत्सव के शुभारंभ समारोह में राज्यसभा सांसद श्री रामविचार नेताम, लोकसभा सांसद सर्वश्री दिनेश कश्यप, विक्रम उसेंडी, और कमल भानसिंह, राज्य अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष श्री जी.आर. राना, सरगुजा एवं उत्तर क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष श्री राजशरण भगत, बस्तर और उत्तर क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष श्री भोजराज नाग, संसदीय सचिव सर्वश्री गोवर्धन सिंह मांझी, अम्बेश जांगड़े, शिवशंकर पैकरा, श्रीमती सुनीति राठिया और श्रीमती चम्पादेवी पावले सहित राज्य नागरिक आपूर्ति निगम की अध्यक्ष सुश्री लता उसेंडी विशेष अतिथि के रूप में शामिल होंगी। अगले दिन 11 दिसम्बर को आयोजित महोत्सव के समापन समारोह की अध्यक्षता प्रदेश के स्कूल शिक्षा और आदिम जाति विकास मंत्री श्री केदार कश्यप करेंगे। समापन समारोह में भी राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष श्री नंदकुमार साय सहित प्रदेश सरकार के सभी मंत्री अति विशिष्ट अतिथि के रूप में सम्मिलित होंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close