छत्तीसगढ़

तेंदूपत्ता बोनस तिहारः गरियाबंद एवं धमतरी जिला के 79 हजार से अधिक तेंदूपत्ता संग्राहकों के खाते में 24 करोड़ 25 लाख रूपये ऑनलाईन ट्रांसफर

तेंदूपत्ता संग्राहकों के पसीने की कमाई का ईनाम है बोनस- श्री पैकरा, कृषि मंत्री और वन मंत्री भी शामिल हुए तेंदूपत्ता बोनस तिहार में

रायगढ़ टॉप न्यूज/रायपुर 06 दिसम्बर 2017। राज्य सरकार ने आज गरियाबंद एवं धमतरी जिले के 79 हजार से अधिक तेंदूपत्ता संग्राहक परिवारों को 24 करोड़ 25 लाख 77 हजार रूपये के तेंदूपत्ता बोनस की सौगात दी। गरियाबंद जिले के तहसील मुख्यालय मैनपुर में आज आयोजित तेंदूपत्ता बोनस तिहार में गृहमंत्री श्री रामसेवक पैकरा, कृषि मंत्री एवं गरियाबंद जिले के प्रभारी श्री बृजमोहन अग्रवाल तथा वनमंत्री श्री महेश गागड़ा, सांसद श्री चन्दूलाल साहू, संसदीय सचिव श्री गोवर्धन मांझी एवं सिहावा विधायक श्री श्रवण मरकाम द्वारा तेंदूपत्ता संग्राहकों को बोनस का वितरण किया गया।
कार्यक्रम में गरियाबंद जिले की 70 प्राथमिक लघु वनोपज सहकारी समितियों के 56 हजार 416 संग्राहकों को 19 करोड़ 10 लाख 82 हजार रूपये और वन मण्डल धमतरी की 26 लघु वनोपज सहकारी समितियों के 22 हजार 678 संग्राहकों को 5 करोड़ 14 लाख 95 हजार रूपये का बोनस वितरण किया गया। साथ ही तेन्दूपत्ता संग्राहक परिवारों के प्रतिभावान बच्चों को छात्रवृत्ति भी वितरित की गई।
तेंदूपत्ता बोनस तिहार कार्यक्रम के मुख्य अतिथि प्रदेश के गृहमंत्री रामसेवक पैकरा ने तेंदूपत्ता संग्राहकों को बधाई देते हुए कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने तेंदूपत्ता संग्राहकों के पसीने की कमाई का मोल समझा है। फलस्वरूप आज बोनस तिहार के माध्यम से उनके खाते में राशि भेजी जा रही है। उन्होंने कहा कि पिछले 14 वर्षो में गरीब, किसान और मजदूरों के हित में अनेक निर्णय लिये गये, जिससे राज्य की जनता समृद्धि की ओर अग्रसर है। श्री पैकरा ने कहा कि एक समय था जब लोग कनकी खरीद कर अपना पेट भरते थे, परन्तु आज एक रूपए किलो में चावल दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि दीपावली के पहले धान का बोनस तिहार मनाया गया और दिवाली के बाद तेंदूपत्ता बोनस तिहार मनाया जा रहा है। इस तरह का तिहार केवल छत्तीसगढ़ में ही मनाया जा सकता है। श्री पैकरा ने उपस्थित जनसमूह से क्षेत्र में सुरक्षा, शांति और विकास के लिए सरकार के साथ कदम मिलाकर चलने का आग्रह किया।
कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए कृषि मंत्री और जिले के प्रभारी श्री बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि छत्तीसगढ़ में वर्षभर तीज-त्यौहार और उत्सव मनाया जाता है। इस साल समर्थन मूल्य पर धान बेचने वाले किसान परिवारों व तेन्दूपत्ता संग्रहण करने वाले परिवारों को बोनस तिहार का उपहार मिला है। गरियाबंद जिले के मैनपुर में आयोजित बोनस तिहार कार्यक्रम में आज गरियाबंद और धमतरी जिले के तेन्दूपत्ता संग्रहण करने वाले हजारों वनवासी परिवारों को उनकी मेहनत की बोनस राशि उनके खाते में जमा करा दी गई है। श्री अग्रवाल ने कहा कि वन और वनवासी ही राज्य की पहचान है। उन्हें ही जंगल को बचाने का श्रेय जाता है। उन्होंने कहा कि गरियाबंद जिले के मैनपुर इलाके में हीरे, जंगलों में जड़ी-बूटी के साथ-साथ तेंदूपत्ता के रूप में हरा सोना मिलता है, जो गुणवत्ता में श्रेष्ठ है। प्रभारी मंत्री श्री अग्रवाल ने कहा कि नया जिला बनने के पश्चात गरियाबंद जिले ने तेजी से विकास किया है। उन्होंने बताया कि अधूरी सिंचाई योजनाएं एक साल में पूर्ण कर लिया जायेगा तथा आने वाले समय में इस क्षेत्र में नहरों का जाल बिछाया जायेगा।
कार्यक्रम में वनमंत्री श्री महेश गागड़ा ने कहा कि यह क्षेत्र वन सम्पदा से भरपूर है। पैरी की गोद में हीरा के साथ हरा सोना भी मिलता है, जो हमारे वनवासियों भाईयों के आजीविका का प्रमुख साधन है। तेंदूपत्ता संग्राहकों को न केवल पारिश्रमिक प्रदान कर रही है, बल्कि बोनस भी दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने तेंदूपत्ता मानक बोरा 450 रूपये से बढ़ाकर 1800 रूपए तक किया है और अगले वर्षो में यह 2500 रूपए हो जायेगा। उन्होंने वन सम्पदा को बचाने का आह्वान करते हुए कहा कि वनों को बचाकर रखें, अवैध कटाई न होने दें। वनमंत्री श्री गागड़ा ने बताया कि अभ्यारण्य क्षेत्र में रहने वाले प्रत्येक परिवारों को दो हजार रूपये दिया जा रहा है।
कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए सांसद श्री चन्दूलाल साहू ने कहा कि राज्य और केन्द्र सरकार जनकल्याणकारी योजनाओं के माध्यम से लोगों के हित के लिए बेहतर काम कर रही है। संसदीय सचिव श्री गोवर्धन मांझी ने कहा कि राज्य सरकार धान बोनस के बाद अब तेंदूपत्ता का बोनस बांट रही है, जिसे वनवासियों को फायदा होगा। उन्होंने तेंदूपत्ता बूटा कटाई-छंटाई का कार्य सही ढंग से करने और वनों की सुरक्षा करने का अनुरोध ग्रामीणों से किया।
बोनस तिहार में ग्राम हसौदा के माधव राम ध्रुव को सर्वाधिक 64 हजार 351 रूपए, रक्सापथरा के प्रतापसिंह नेताम को 49 हजार 748 रूपये, जवाहर सिंह को 45 हजार 60 रूपये, प्रेमलाल को 41 हजार 259 रूपए, ग्राम कोसमबुड़ा के भारत राम को 33 हजार 462 रूपए, गुजरा के दिलीप कुमार को 33 हजार 325 रूपए प्राप्त हुआ, साथ ही दो महिला लाख उत्पादक समूहों को 50 हजार रूपये के चेक वितरित किये गये। बोनस तिहार में पूर्व विधायक श्री डमरूधर पुजारी, छत्तीसगढ़ राज्य लघु वनोपज संघ के अध्यक्ष श्री टीकम टांडिया, जिला वनोपज सहाकारी समिति के अध्यक्ष श्री भागीरथी मांझी, अकबर कश्यप, पुस्तम कपिल, मैनपुर की सरपंच श्रीमती सरिता सेन, मुख्य वन संरक्षक श्री अरूण पाण्डेय, अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक श्री देवाशीष दास, कलेक्टर श्रीमती श्रुति सिंह, पुलिस अधीक्षक श्री जितेन्द्र मीणा, वनमण्डलाधिकारी श्री राजेश पाण्डेय सहित वन विभाग के अधिकारी तथा तेंदूपत्ता संग्राहक एवं आमजनता बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close