धर्म

मरीज़ को दवाई की जगह हनुमान चालीसा पढ़ने की सलाह देता है ये डॉक्टर

 बीमार पढ़ने के बाद मरीज सबसे पहले डॉक्टर के पास जाता है. उसे उम्मीद रहती है कि डॉक्टर दवाई और अच्छे से इलाज करके सबकुछ ठीक कर देगा.

रायगढ़ टॉप न्यूज। बीमार पढ़ने के बाद मरीज सबसे पहले डॉक्टर के पास जाता है. उसे उम्मीद रहती है कि डॉक्टर दवाई और अच्छे से इलाज करके सबकुछ ठीक कर देगा. अगर कोई डॉक्टर कहे कि रोज हनुमान चालीसा का पाठ करें और मंदिर जाने की सलाह दे तो.

सुनने में थोड़ा अजीब लगेगा. क्योंकि डॉक्टर का काम होता है, सही उपचार करके मरीज को ठीक करना. लेकिन राजस्थान के इस डॉक्टर की मानें तो दवाई के साथ-साथ ये हनुमान चालीसा का पाठ करने की भी सलाह देते हैं. उनका ये प्रिसक्रिप्शन सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. जिसमें उन्होंने मरीज को हनुमान चालीसा और रोज मंदिर जाकर पाठ में शामिल होने की सलाह दी है.

डॉक्टर दिनेश शर्मा राजस्थान के भरतपुर के हैं. 69 वर्षीय दिनेश वरिष्ठ सरकारी चिकित्सक रह चुके हैं. वो अब रिटायर होकर क्लिनिक संभालते हैं. ये जो प्रिसक्रिप्शन वायरल हो रहा है वो पर्चा शेखर नामक व्यक्ति का है. जो एक मैकेनिक है और वो पेट दर्द की शिकायत लेकर डॉक्टर को दिखाने गया था.

दिनेश ने चार दवाईयां लिखने के बाद पांचवां नंबर लिखकर हनुमान जी की चालीसा करने की सलाह दे डाली और साथ ही लिखा- ‘प्रतिदिन मंदिर में आरती करने जाइए.’ दिनेश का कहना है कि हर दिन मंदिर जाना और हनुमान चालीसा का पाठ करने से मन को शांति मिलती है और बीमारी भी ठीक हो जाती है.

पर्चे पर लिखा है- डॉक्टर सिर्फ इलाज करता है, ठीक भगवान करता है
दिनेश ने अपने पर्चे में भी भगवान का जिक्र किया है. पर्चे के सबसे ऊपर लिखा है- ‘डॉक्टर सिर्फ इलाज करता है, ठीक भगवान करता है.’ दिनेश कहते हैं- मैं मरीजों को ‘आध्यात्मिक खुराक’ देता हूं. आध्यात्मिकता से तेज रिकवरी होती है.

देखते हैं हफ्ते में सिर्फ दो दिन

दिनेश शर्मा का क्लीनिक भरतपुर में रेलवे स्टेशन रोड पर है. वो दिन में सिर्फ 10 बजे से 2 बजे तक बैठते हैं और हफ्ते में दो ही दिन मरीजों को देखते हैं. उनके अधिकतर मरीज गांव से आते हैं. दिनेश का कहना है कि वो उन लोगों को हनुमान पाठ करने को कहते हैं जो स्ट्रेस की वजह से बीमार पड़े हैं.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close