देश

मैं बहुत दुखी हूं, क्योंकि लोकतंत्र को हर दिन एक झटका लग रहा है: पी चिदंबरम

नई दिल्ली/हरिभूमि। कांग्रेस सांसद पी चिदंबरम ने राज्यसभा (संसद) में कहा कि मैं खुशहाल परिस्थितियों में बोल रहा था। मैं केवल इसलिए दुखी नहीं हूं क्योंकि भारत कल क्रिकेट मैच हार गया, बल्कि मैं इसलिए बहुत दुखी हूं क्योंकि लोकतंत्र को हर दिन एक झटका लग रहा है। कर्नाटक और गोवा मुद्दे पर पी चिदंबरम ने कहा कि हमने कर्नाटक और गोवा में जो देखा है वह राजनीतिक उत्थान (उन्नती) हो सकता है, लेकिन इसका अर्थव्यवस्था पर बहुत हानिकारक प्रभाव पड़ेगा।

विदेशी निवेशक, रेटिंग एजेंसियां और इंटरनेशनल संगठन भारतीय मीडिया को फॉलो नहीं करते हैं। उन्होंने आगे कहा कि राजनीतिक अस्थिरता पर वे जो सुनते और पढ़ते हैं उसका अर्थव्यवस्था पर प्रभाव पड़ेगा।

बजट को लेकर पी चीदंबरम ने आगे कहा कि बेरोजगारी को गंभीरता से देखा जा सकता है। 62,907 खलासी पदों के लिए 82 लाख लोगों ने अप्लाई किया जिनमें 4,19,137 बीटेक ग्रेजुएट थे और 40,751 इंजीनियरिंग थे जोकि मास्टर्स किए हुए थे। यह वह अर्थव्यवस्था है जो आपको विरासत में मिली है। मैं उसके लिए उसे दोष नहीं देता।

लेकिन वास्तविकता को ध्यान में रखते हुए, आपको सहासी होना चाहिए। सरकार के पास एक शानदार जनादेश है, लोकसभा में 303 लोग हैं। डॉ मनमोहन सिंह और मैंने नोटों का आदान-प्रदान किया है और हम चाहते हैं कि हमारे जीवन में कुछ समय के लिए उन्हें इस तरह का जनादेश मिले।

इसके अलावा उन्होंने कहा कि सहयोगियों की मदद से आपको 352 से अधिक का जनादेश मिला गया है, आपको यह स्थिति क्यों मिली है। आपने साहसिक कदम क्यों नहीं उठाया?

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close