छत्तीसगढ़

काले हिरण की मौत मामले ने पकड़ा तूल, विधायक ने CM व वनमंत्री को पत्र लिखा DFO पर कार्रवाई की मांग की

बलौदाबाजार । बार नवापारा अभ्यारण्य स्थित काला  हिरन अनुकूलन केन्द्र में पिछले पिछले एक साल में 25 काले हिरणों की मौत का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। इस मामले में बिलाईगढ़ विधायक चन्द्रदेव रॉय ने मुख्यमंत्री एवं वन मंत्री को पत्र लिखकर मामले की निष्पक्ष जांच एवं डीएफओ के ट्रांसफर की मांग की है क्षेत्रीय विधायक ने बार नवापारा काला हिरण अनुकूलन केन्द्र का औचक निरीक्षण किया। कसडोल विकास खण्ड के अंतर्गत आने वाले बार नवापारा अभ्यारण्य में पर्यटकों को लुभाने के लिए वन विभाग द्वारा केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण देहरादून के विशेषज्ञों निरीक्षण के बाद कालाहिरण अनुकूलन केन्द्र की स्थापना की गई । बार नवापारा अभ्यारण्य को प्रारंभ में नर एवं मादा मिलाकर कुल 27 कालाहिरण मिले थे , बाद में और लाए गए कुल मिलाकर संख्या 72 हो गई ।जब से बार नवापारा अनुकूलन केन्द्र में काले हिरण लाए गए हैं तब से इनकी देखभाल एवं रख रखाव को लेकर वन विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों पर लापरवाही बरतने का आरोप लगते रहे हैं ।यहाँ पर लाए गए काले हिरणों की एक के बाद एक मौत होते गई ।अनुकूलन केन्द्र में मृत काले हिरणों के पोस्टमार्टम रिपोर्ट को यदि माना जाए तो डॉक्टर ने मौत का कारण निमोनिया बताया गया था ।यहां पर लाए गए करीब 21 काले हिरण की मौत हो जाने की जानकारी मिल रही है लेकिन वन विभाग के आंकड़े में अभी तक 12 काले हिरण की मौत की पुष्टि हुई है ।यदि वन विभाग के ही आंकड़े को भी मान लिया जाए तो इतने कम समय में इतनी बड़ी संख्या में हिरणों की मौत होना कहीं न कहीं विभागीय अमले की लापरवाही या तो फिर अनुभवहीनता उजागर हो रही है । विलुप्तप्राय दुर्लभ वन्य प्राणी काले हिरण की मौत के मामले को गंभीरता से लेते हुए क्षेत्रीय विधायक चन्द्रदेव रॉय ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल एवं वन मंत्री मो . अकबर को पत्र लिखकर काले हिरणों के मौत के मामले की निष्पक्ष जांच कर इस मामले में जिम्मेदार अधिकारियों पर कड़ी कार्यवाही की मांग की थी ।विधायक के पत्र पर संज्ञान लेते हुए शासन द्वारा मामले के जांच के आदेश जारी किए गए हैं ।विधायक चन्द्रदेव रॉय ने बलौदाबाजार वन मण्डल में पदस्थ डी एफ ओ विश्वेष झा पर अपने कर्तव्य के प्रति उदासीनता बरतने एवं निर्माण कार्यों में भ्रष्टाचार करने का आरोप लगाते हुए उन्हें तत्काल यहाँ से स्थानांतरित करने की मांग की है।विधायक चन्द्रदेव रॉय ने कहा कि बार नवापारा काला हिरन अनुकूलन केन्द्र के अलावा मगरमच्छ पार्क एवं वन भैंसा अनुकूलन केन्द्र हैं लेकिन विभाग के अधिकारियों की लापरवाही के चलते सहीं ढंग से इनके देखभाल नहीं हो पा रही है ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close