छत्तीसगढ़

भीमा मंडावी के पिता बोले- सुबह एक व्यक्ति ने घर आकर कहा था, शाम को विधायक बेटे की लाश मिलेगी

स्थानीय गोंडी भाषा में विधायक के पिता लिंगा मंडावी ने कहा- मारने वाले नक्सलियों को नहीं छोड़ेंगे
दंतेवाड़ा में हुए नक्सली हमले में मारे गए हैं बस्तर में भाजपा के इकलौते विधायक, चार जवान भी हुए शहीद

रायपुर. छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में मंगलवार शाम हुए नक्सली हमले में मारे गए भाजपा विधायक भीमा मंडावी के पिता लिंगा मंडावी ने बुधवार को चौंकाने वाला बयान दिया। उन्होंने मीडिया से बात करते हुए स्थानीय गोंडी बोली में बताया कि मंगलवार सुबह उनके घर पर एक व्यक्ति आया था। उसने धमकी दी थी कि हम तुम्हारे बेटे को मार डालेंगे। शाम तक तुम्हारे विधायक बेटे की लाश आएगी। नक्सलियों ने मंगलवार को कुआंकोंडा थाना क्षेत्र के श्यामगिरी नकुलनार रोड पर भाजपा के काफिले को निशाना बनाते हुए आईईडी ब्लास्ट किया। हमले में भाजपा विधायक भीमा मंडावी के मारे जाने के साथ ही चार जवान शहीद हो गए थे।

रायपुर में सुबह से ही नक्सली हमले को लेकर थी सुगबुगाहट
प्रदेश में हो रही नक्सली घटनाओं के बाद से केंद्र व राज्य सरकार के बीच बड़ा हमला होने के इनपुट शेयर हो रहे थे। मंगलवार को सुबह से घटना होने के पहले तक बड़ा नक्सली हमला होने के 27 इनपुट शेयर हुए थे। आत्मसमर्पित नक्सलियों ने बड़ा हमला होने के बारे में बताया था। सूत्रों के मुताबिक, वहीं राजधानी रायपुर में भी किसी बड़े नक्सली हमले को लेकर सुगबुगाहट तेज हो गई थी। पुलिस के उच्चाधिकारियों से लेकर थाने के टीआई तक को इसकी जानकारी मिल रही थी। इसके बाद उन्होंने हमले की आशंका भी जताई थी।
उधर, पुलिस के आला अधिकारी दावा कर रहे हैं कि नक्सली मूवमेंट को लेकर विधायक भीमा मंडावी को पहले ही अलर्ट किया गया था। डीजी गिरधारी नायक ने मंगलवार देर शाम दावा किया था कि विधायक मंडावी को इन क्षेत्रों में न जाने की सलाह पहले ही दी गई थी। इसको लेकर स्थानीय थाने के प्रभारी ने मंडावी को मोबाइल पर कॉल कर जाने से रोका भी था। हालांकि इस पूरी घटना के बाद से ही मंडावी का मोबाइल गायब है। डीजी एंटी नक्सल ऑपरेशन गिरधारी नायक ने दावा किया कि झीरम घाटी कांड की तरह ही नक्सलियों ने इस अटैक की तैयारी की थी।

जांच के लिए मौके पर पहुंची एफएसएल की टीम
नक्सली हमले की जांच के लिए बुधवार सुबह से ही फॉरेंसिक टीम मौके पर पहुंच गई है। जहां अधिकारियों ने मामले की जांच शुरू कर दी है। आईईडी विस्फोट से 5 मीटर चौड़ा और 6 मीटर गहरा गढ्‌ढा मौके पर बन गया है। माना जा रहा है कि इसके लिए करीब 50 किलो विस्फोटक का इस्तेमाल किया गया है। वहीं धमाके के लिए करीब 200 मीटर दूर से कमांड आईडी इस्तेमाल किया गया। धमाके का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि घटनास्थल से 300 मीटर दूरी पर वाहन का इंजन बरामद हुआ है। घटना स्थल से कुआकोंडा थाना तीन किमी दूर है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close