देश

IT छापा में 281 करोड़ के “कैश रैकेट” का खुलासा, 20 करोड़ एक बड़े नेता के एक घर से पार्टी मुख्यालय भेजे जाने का भी खुलासा

नयी दिल्ली 9 अप्रैल 2019। मध्यप्रदेश में दिल्ली आयकर विभाग की छापेमारी में 281 करोड़ रुपये की बेहिसाब कैश रैकेट का खुलासा हुआ है। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने जानकारी दी कि राजनीति, व्यापार और सरकारी सेवाओं से जुड़े लोगों के यहां की गई कार्रवाई में इस कैश रैकेट का खुलासा हुआ। बीते 48 घंटों में हुई आयकर विभाग की कार्रवाई से सियासत अपने उबाल पर है. पहले मध्य प्रदेश की छापेमारी में 281 करोड़ की संपत्ति बरामद हुई तो दिल्ली में कांग्रेस नेता अहमद पटेल के करीबी पर छापा पड़ा.

बता दें कि कैशबुक के अलावा 242 करोड़ रुपये की रकम के फर्जी बिलों के जरिए हेरफेर और टैक्स के लिए स्वर्ग कहे जाने वाले देशों में 80 कंपनियों के भी साक्ष्य मिले हैं। इस कार्रवाई में दिल्ली के पॉश इलाकों में कुछ बेनामी संपत्तियों का भी खुलासा किया गया।

दरअसल, दिल्ली में अहमद पटेल के अकाउंटेंट एसएम मोईन के घर पड़ी छापेमारी की कहानी मध्य प्रदेश से ही शुरू होती है. जहां पर मुख्यमंत्री कमलनाथ के ओएसडी के ठिकानों पर छापेमारी हुई थी. उसी से तार जुड़े तो मामला सामने आया कि हवाला के जरिए दिल्ली में 20 करोड़ रुपये भेजे गए हैं. जब बात आगे बढ़ी तो पता लगा कि ये पैसे दिल्ली कांग्रेस दफ्तर में रिसीव किए गए हैं, जिसे एसएम मोईन ने रिसीव किया है. मोईन को अहमद पटेल के करीबी सूत्र अहमद पटेल का चीफ अकाउंटेंट बता रहे हैं. अहमद पटेल का नाम इस मामले में तब आया जब आयकर विभाग के हाथ एक तस्वीर लगी जिसमें अहमद पटेल और एसएम मोईन एक साथ थे.

इस पूरे मामले में आयकर विभाग ने दिल्ली, एनसीआर, भोपाल, इंदौर और गोवा में छापेमारी की. बताया जा रहा है कि करीब 300 अधिकारियों ने ये सर्च ऑपरेशन चलाया और 52 ठिकानों पर रेड मारी. इस मामले पर विवाद बढ़ा तो अहमद पटेल के करीबी सूत्र ने भी सफाई जारी की.

सूत्र के अनुसार ‘अहमद पटेल पार्टी के कोषाध्यक्ष हैं और जिसके घर आयकर विभाग ने छापा मारा वह एसएम मोइन उनका ही चीफ अकाउंटेंट है. सोमवार को वह पूरे दिन ऑफिस नहीं आया था, बताया गया कि वह बीमार है. अहमद पटेल शाम को उनके घर हालचाल लेने पहुंचे तो उन्हें छापेमारी की कोई जानकारी नहीं थी. उन्हें वहां पर जाने से भी किसी ने रोका नहीं था.’

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close