छत्तीसगढ़

आईटीएमएस और शहीद स्मारक भवन का CM भूपेश ने किया उदघाटन

स्वतंत्रता सेनानियों को किया याद, ITMS पर बोले – अब ट्रैफिक तोड़ने वालों के मन में होगा डर, घर पहुंच जायेगा ई-चालान

रायपुर 6 मार्च 2019। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज राजधानी को दो बड़ी सौगात दी। शहीदों के सम्मान को समर्पित जहां उन्होंने नवनिर्मित शहीद स्मारक भवन का उन्होंने लोकार्पण किया, तो वहीं अत्याधुनिक ट्रैफिक सिस्टम से लैस ITMS का भी उन्होंने शुभारंभ किया। महापौर प्रमोद दुबे के नेतृत्व वाली रायपुर नगर निगम का ये ड्रीम प्रोजेक्ट था, जिसका आज शुभारंभ किया गया। खुद महापौर प्रमोद दुबे भी इसे रायपुर शहर की एक बड़ी उपलब्धि के तौर पर मानते हैं।

आज देर रात मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राजधानी में एक भव्य कार्यक्रम के दौरान इसका शुभारंभ किया। इस मौके पर विलंब से पहुंचे मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि वो सड़क मार्ग से धमतरी से रायपुर आये, इसकी वजह से ही उन्हें कार्यक्रम में आने में विलंब हुआ।

उन्होंने कहा कि ये सौभाग्य की बात है कि राजधानी में शहीदों के सम्मान में तैयार हुआ शहीद स्मारक भवन अपने पूर्वजों और स्वतंत्रता सेनानियों की यादों को हमेशा संजोये रहेगा। मुख्यमंत्री ने ITMS के बारे में कहा कि इससे ट्रैफिक व्यवस्था दुरुस्त होगी, साथ ही ट्रैफिक तोड़ने वालों के मन में एक डर होगा कि अगर उन्होंने नियम तोड़ा तो उनके घर पर ई-चालान पहुंच जायेगा। मुख्यमंत्री कार्यक्रम के बाद तुरंत दिल्ली रवाना हो गये, जहां कल वो पार्टी की अहम बैठक में शिरकत करेंगे। लोकसभा चुनाव के मद्देनजर ये बैठक काफी अहम मानी जा रही है।

क्या है ITMS , कैसे करेगा काम
ये पूरी योजना रायपुर महापौर प्रमोद दुबे की देखरेख में तैयार हुई है। इसके तहत शहर के 50 चौराहों पर लगे कैमरे अधिकृत तौर पर चालू कर दिए गये हैं। उसके बाद ट्रैफिक नियम तोड़ने वालों के घर सीधे डाक से चालान पहुंचेगा। चौराहे पर लगे कैमरे एक-एक वाहन पर नजर रखेंगे। सिग्नल ब्रेक करने या मोबाइल पर बातें करते हुए गाड़ी चलाने वाले कैमरे में फंसेंगे। हालांकि ट्रैफिक पुलिस ने इसका ट्रायल शुरू कर दिया है। ट्रैफिक नियम तोड़ने वाले 105 लोगों के घर ई-चालान भेजा गया है। बुधवार से कार्रवाई में तेजी जाएगी। रोज चालान घर भेजा जाएगा। 158 करोड़ रुपए की लागत से तैयार आईटीएमएस (इंटेलीजेंट ट्रैफिक एंड मैनेजमेंट सिस्टम) तथा टीईएस (ट्रैफिक इंफोर्समेंट सिस्टम) एसएस (सर्विलांस सिस्टम) तथा आईसीसीसी (इंटीग्रेटेड कमांड व कंट्रोल सेंटर) योजना को राजनधानी के नाम किया गया। शहर में 50 से ज्यादा चौराहों पर ढाई सौ से अधिक कैमरे लगाए गए हैं। ट्रैफिक सिग्नल्स लगाया गया है। शहर में 20 जगहों पर स्मार्ट पोल लगाए गए हैं। यहां इमरजेंसी काल बॉक्स भी लगाया गया है। आपात स्थिति में तत्काल पुलिस और अन्य एजेंसियों की मदद ली जा सकेगी। फ्री वाईफाई की सुविधा भी दी जा रही है। स्मार्ट पोल से आग, मौसम तथा दुर्घटनाओं की भी जानकारी कमांड सेंटर के माध्यम से मिलेगी। मल्टीलेवल पार्किंग के ऊपर तीन फ्लोर अतिरिक्त बनाए गए हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close