रायगढ़

देवनागरी हिंदी देश की सबसे सरल भाषा- महालक्ष्मी अय्यर

देश की ख्यातिलब्ध पाश्र्व गायिका की प्रेस वार्ता

रायगढ़। देवनागरी लिपी की हिंदी भाषा पूरे देश में सबसे अच्छी, शुद्ध और आसानी से समझ में आने वाली भाषा है। दक्षिण क्षेत्र से होनें के बावजूद में अन्य प्रांतों के दूसरी भाषाओं को समझने के लिए हिंदी का ही सहारा लेती है। हिंदी में ऐसे गाने को लिख समझकर गीत गाने में आसानी होती है। चक्रधर समारोह और रायगढ़ के कत्थक घराने ने पिछले कुछ दशक में राष्ट्रीय स्तर पर कला व नृत्य के साथ-साथ क्लासिकल बेस पर आधारित मंच के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनाई है।

अंतर्राष्ट्रीय अवार्ड विनिंग फिल्म स्लम डाग मिलेनियर के प्रसिद्ध गीत जय हो और कभी शाम ढले मेरे दिल में आना जैसे गीतों से पाश्र्व गायन के क्षेत्र में अपनी प्रसिद्धी पाने वाली विश्व स्तर की पाश्र्व गायिका महालक्ष्मी अय्यर ने आज मीडिया के सामने अपनी बात रखते हुए विचार साझा किए। उन्होंने कहा कि रायगढ़ के चक्रधर समारोह में आकर उन्हें काफी खुशी हुई है और मै यहां क्लासिकल बेस के कुछ गाने भी प्रस्तुत करने वाली हूं। चक्रधर समारोह का पूरे देश में काफी नाम है। मेरे लिए यह गौरव की बात है कि मुझे पहली बार यहां आकर कला पारखी श्रोताओं के बीच अपनी प्रस्तुती देने का मौका मिला है। उन्होंने बताया कि उनके द्वारा उडिया भाषा के भी तथा मराठी के भी गीत गाए गए हैं। फिल्मों में शास्त्री गीतों की घटती उपस्थिति पर उनका कहना था कि कला के क्षेत्र में दौर बदलते रहता है। अब टे्रंड बदल रहा है और उन्हें उम्मीद है कि आने वाले दिनों में फिर से एक बार क्लासिकल बेस्ड गीतों का दौर फिर आएगा। छत्तीसगढ़ के बारे में उनका कहना था कि यह बहुत खूबसूरत जगह है। जहां की हरियाली उन्हें भा गई है। गीतों की प्रस्तुती के लिए उनका मानना है कि शास्त्रीय संगीत का गायक को ज्ञान होना जरूरी है। यही गायिकी की न्यू है और न्यू मजबूत होनें पर कलाकार किसी भी मंच में अपनी प्रस्तुती देकर श्रोताओं को अपनी ओर आकर्षित कर सकता है।

advertisement advertisement advertisement advertisement advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close