देश

ब्रिटेन में मां-बच्चों के नाम है प्रॉपर्टी, जिसे कोई छू नहीं सकता: विजय माल्या

नई दिल्ली, 09 जुलाई 2018, भारतीय बैंकों का हजारों करोड़ रुपये का लोन लेकर फरार कारोबारी विजय माल्या ने कहा है कि ब्रिटेन में उनकी कोई प्रॉपर्टी नहीं है और जो भी प्रॉपर्टी है वह उनके मां और बच्चों के नाम है. उन्होंने कहा कि उनकी मां और बच्चों की प्रॉपर्टी को कोई छू भी नहीं सकता.

उन्होंने कहा कि ब्रिटेन में उनके नाम बस कुछ कारें और ज्यूलरी ही हैं जिन्हें वह कभी भी सौंपने को तैयार हैं. गौरतलब है कि पिछले हफ्ते ही ब्रिटिश हाईकोर्ट ने आदेश दिया है कि ब्रिटिश अधिकारी लंदन स्थित माल्या की संपत्तियों की जांच और जब्ती कर सकते हैं.

मुझे सूली पर लटका देना चाहते हैं कुछ लोग
माल्या ने कहा,’ भारत में चुनावी साल है. मुझे लगता है कि वे मुझे वापस लाकर सूली पर लटका देना चाहते हैं ताकि उन्हें ज्यादा वोट मिल सकें.’

ब्रिटिश हाईकोर्ट ने भारतीय बैंकों की अर्जी पर गुरुवार को अपना फैसला सुनाया जिसमें कहा गया कि 13 बैंकों के संगठन विजय माल्या से संबंधित संपत्तियों की जांच और नियंत्रण के लिए तलाशी ले सकते हैं.

इससे भड़के विजय माल्या ने रविवार को समाचार एजेंसी रायटर्स से बात करते हुए कहा कि वह ब्रिटिश प्रवर्तन अधिकारियों का पूरा सहयोग करेंगे. लेकिन उनके नाम ब्रिटेन में कोई प्रॉपर्टी नहीं है. यहां तक कि उनका परिवार जिस आलीशान मकान में रह रहा है, वह भी उनके नाम नहीं है.

माल्या ने कहा, ‘ब्रिटेन में मेरे नाम से जो भी प्रॉपर्टी है वह मैं सौंप दूंगा. लेकिन यहां जो लग्जरी आवास है वह मेरे बच्चों के नाम है और लंदन का मकान मां के नाम है, जिन्हें कोई छू नहीं सकता.’

गौरतलब है कि भारत सरकार माल्या के लंदन से प्रत्यपर्ण के लिए पूरा जोर लगा रही है और इस बारे में लंदन की अदालत सितंबर तक कोई फैसला कर सकती है.

माल्या ने कहा, ‘मैंने यूके की कोर्ट में अपने एसेट के बारे में हलफनामा दिया है. कुछ कारें हैं, ज्यूलरी हैं, जिन्हें लेने के लिए आपको आने की जरूरत नहीं, मैं खुद ही सौंप दूंगा. मुझे तारीख, समय और स्थान बता दें. लेकिन मकान देने का सवाल ही नहीं है.’

मार्च, 2016 में भारत से फरार होने के बाद माल्या ब्रिटेन में ही रह रहा है. मैं तो घर वापस आया हूं उन्होंने कहा, ‘मैं हमेशा से इंग्लैंड का निवासी और एनआरआई रहा हूं. तो मैं कहां वापस आता? इसलिए फरार होने की बात क्यों कही जा रही है? इसके पीछे राजनीति है.’

advertisement advertisement advertisement advertisement advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close