छत्तीसगढ़

13 तक ड्यूटी ज्वाइन नहीं की तो 108/102 एंबुलेंस के कर्मचारियों की सेवा होगी समाप्त

जीवीके ईएमआरआई ने हड़ताली कर्मचारियों को दी अंतिम मोहलत

रायपुर। अपनी मांगों को लेकर 5 अप्रैल से हड़ताल में शामिल जीवीके ईएमआरआई संस्था ने 108/102 एंबुलेंस के कर्मचारियों को सख्त चेतावनी दी है कि अगर वे 13 अप्रैल की सुबह 8 बजे तक ड्यूटी ज्वाइन नहीं करते हैं, तो यह माना जाएगा कि ऐसे कर्मचारी जीवीके ईएमआरआई संस्था में आगे अपनी सेवाएं देने के इच्छुक नहीं है। इसलिए ऐसे सभी कर्मचारियों की सेवाएं समाप्त कर दी जाएंगी एवं उनके स्थान पर नई भर्ती कर योग्य एवं प्रशिक्षित उम्मीदवारों को स्थायी नियुक्ति दे दी जाएगी। हम आपको बता दें कि इससे पहले संस्था ने हड़ताली कर्मचारियों को 9 अप्रैल को नोटिस जारी कर 24 घंटे के अंदर अपने निर्धारित कार्य स्थान में ड्यूटी ज्वाइन करने को कहा था। जिसके बाद कई कर्मचारियों ने हड़ताल छोड़कर ड्यूटी ज्वाइन कर ली थी, पर अधिकांश कर्मचारी अल्टीमेटम समाप्त होने के बाद भी हड़ताल में डटे हैं। जिसके बाद संस्था ने मानवीय आधार पर इन कर्मचारियों को ड्यटी ज्वाइन करने के लिए 13 अप्रैल तक अंतिम मोहलत दी है। जीवीके ईएमआरआई संस्था का कहना है कि संस्था के सभी कर्मचारी पिछले 7 सालों से 108/102 जैसी जन कल्याणकारी व आवश्यक चिकित्सा सेवा में अपना योगदान दे रहे हैं, इन्ही सेवाओं को ध्यान में रखकर मानवीय आधार पर हड़ताल में शामिल कर्मचारियों को यह अंतिम अवसर प्रदान किया गया है। संस्था का कहना है कि संजीवनी 108/102 कर्मचारी कल्याण संघ द्वारा 5 अप्रैल 2018 से किये जा रहे अनिश्चितकालीन हड़ताल को श्रम न्यायालय रायुपर ने 7 अप्रैल को ही अवैधानिक घोषित कर दिया था। संस्था का दावा है कि प्रदेश में 10 अप्रैल को भी 108 संजीवनी एक्सप्रेस एवं 102 महतारी एक्सप्रेस एम्बुलेंसों की सेवाएं सुचारू रूप से सामान्य दिनों की तरह संचालन किया गया। 108 संजीवनी एक्सप्रेस ने 10 अप्रैल की शाम 6 बजें तक कुल 384 लोगों को सेवा प्रदान की। वही 102 महतारी एक्सप्रेस ने कुल 799 हितग्राहियों को सेवा प्रदान की।

advertisement advertisement advertisement advertisement advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close