छत्तीसगढ़

वेतन नहीं दिया तो कर्मचारी ने 3 साथियों के साथ चलाई थी गोली, लूटा बैग खोला तो उड़ गए होश

रायगढ़ टॉप न्यूज 02 जनवरी/अंबिकापुर। नगर के खरसिया चौक स्थित ग्रीन पार्क कॉलोनी के समीप 29 नवंबर की रात सवा 9 बजे एक व्यवसायी से 6 लाख रुपए की लूटपाट होने का मामला सामने आया था। पुलिस ने मामले में व्यवसायी के दुकान में पूर्व में काम करने वाले कर्मचारी सहित 3 लोगों को गिरफ्तार किया है।

आरोपियों के पास से पुलिस ने एक बैग और उसमें रखे महत्वपूर्ण दस्तावेज भी बरामद किया। एसएसपी ने बताया कि व्यवसायी से रुपए की लूट हुई है कि नहीं इसकी जांच जारी है। रंजिशवश पूर्व कर्मचारी ने 2 साथियों के साथ वारदात को अंजाम दिया है। बताया जा रहा है कि लूट के शिकार व्यवसायी ने कर्मचारी का एक महीने का तनख्वाह नहीं दिया था। इसी रंजिशवश उसने वारदात को अंजाम दिया।

 

एसएसपी आरएस नायक ने सोमवार को पत्रकारों को मामले का खुलासा करते हुए बताया कि 29 नवंबर को नगर के खरसिया चौक स्थित विशाल पेट्रोल पंप से लगे ग्रीन पार्क कॉलोनी निवासी अंकुर गर्ग पिता विजय गर्ग 23 वर्ष अग्रसेन चौक स्थित लक्ष्मी ट्रेडिंग दुकान बंद कर घर वापस लौट रहा था।

इस दौरान कॉलोनी के मेन गेट के पास पहले से खड़े दो युवकों ने उसपर गोली चलाकर उसका बैग व मोबाइल लूटकर फरार हो गए थे। व्यवसायी ने कोतवाली में मामला दर्ज कराते हुए बैग व मोबाइल सहित 6 लाख रुपए लूटपाट किए जाने की शिकायत दर्ज कराई थी। घटना स्थल पर आईजी हिमांशु गुप्ता ने पुलिस अधिकारियों के साथ जाकर वारदात का रि-क्रियेशन कराकर देखा था और उन्होंने आरोपियों की धड़-पकड़ हेतु निर्देंशित भी किया था।

मामले की विवेचना हेतु कोतवाली पुलिस के साथ क्राइम ब्रांच की टीम को लगाया गया था। एसएसपी आरएस नायक, एडिशनल एसपी रामकृष्ण साहू व सीएसपी आरएन यादव के मार्गदर्शन में आरोपियों की पतासाजी शुरू की गई। मामले में पुलिस ने व्यवसायी के दुकान में पूर्व में कार्यरत लुण्ड्रा के ग्राम सिलसिला निवासी 26 वर्षीय जितेन्द्र पैंकरा को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो पूरे मामले का खुलासा हुआ।

मामले में पुलिस ने लुण्ड्रा के ग्राम सिलसिला डांड़पारा निवासी 20 वर्षीय रामकरण पैकरा पिता रामाधार पैकरा व ग्राम सिलसिला इमलीपारा निवासी ३६ वर्षीय मडवारी एक्का पिता सोमारू एक्का को गिरफ्तार किया।

 

पुलिस को ये बताई बातें
पुलिस ने जितेन्द्र पैकरा से पूछताछ की तो उसने बताया कि वह बैग लूटने के बाद वे ग्राम पंचायत कंठी की तरफ फरार हो गए थे। इस दौरान उन्होंने व्यवसायी के मोबाइल को रास्ते में ही छिपा दिया था और बैग को ग्राम कंठी के पास देखा तो उसमें एक रुपए भी नहीं थे। उन्होंने कंठी के ही एक खेत में बैग को छिपा दिया।

पुलिस ने आरोपियों की निशानदेही पर खेत से बैग को बरामद किया। कार्रवाई में कोतवाली थाना प्रभारी विनय सिंह बघेल, एसआई सतीश सोनवानी, नरेश साहू, प्रधान आरक्षक प्रवीण राठौर, नारायण चौधरी, आरक्षक प्रविंद्र सिंह, क्राईम ब्रांच प्रभारी एएसआई भूपेश सिंह, विनय सिंह, रामअवध सिंह, धीरज गुप्ता, धर्मेन्द्र श्रीवास्तव, आरक्षक उपेन्द्र सिंह, राकेश शर्मा, विकास सिंह, बृजेश राय, जयदीप सिंह, दशरथ राजवाड़े, जितेश साहू, मंजीत सिंह, भोजरात पासवान, अमित विश्वकर्मा, विरेन्द्र पैकरा, संजय एक्का, अजय थवाइत शामिल थे।

रुपए नहीं देने से नाराज हो लूट की बनाई थी योजना
एसएसपी आरएस नायक ने बताया कि क्राइम ब्रांच को घटना के कुछ दिन बाद ही पता चला था कि लुण्ड्रा के ग्राम सिलसिला में जितेन्द्र पैंकरा घटना को अंजाम देने के लिए कट्टा खोज रहा है। पुलिस ने उसे पकड़कर जब पूछताछ की तो उसने वारदात करने की बात कबूल ली।

उसने बताया कि वह पूर्व में प्रार्थी के दुकान में काम करता था और ग्रीन सिटी में बने एक छोटे कमरे में रहता था। उसने बताया कि इस वर्ष गर्मी में वह व्यवसायी के दुकान में एक माह काम किया लेकिन जब रुपए मांगा तो उसने नहीं दिया और बाद में लेने की बात कही। इसके बाद उसने काम छोड़ दिया था।

काम करने के दौरान वह यह जान गया था कि बुधवार को व्यवसायी दुकान का कलेक्शन का रुपए लेकर घर आता था। इसपर वह अपने साथ रामकरण पैकरा, मडवारी राम से सम्पर्क किया। तीनों ने मिलकर जशपुर के बजरूराम से कट्टा मंगवाया था। बजरूराम कट्टा लेकर वारदात के दिन जशपुर से अंबिकापुर पहुंचा था। पुलिस अभी मामले में बजरूराम की तलाश कर रही है।

कट्टे की गोली लगने से हुए थे फरार
आरोपियों ने व्यवसायी पर गोली चलाई थी, लेकिन जैसे ही जेब से कट्टा निकाले ट्रिगर अपने आप ही दब गया। इससे गोली उसके पैर में लग गई। गोली की आवाज सुनकर तीनों वहां से भाग गए। ग्राम असकला में सेवानिवृत स्वास्थ्य कार्यकर्ता भज्जूराम के घर जाकर बताया कि पैर में छर्रा लग गया है। उन्होंने इलाज करने के बाद उन्हें छोड़ दिया था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close