छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ के डॉक्टर आज मना रहे काला दिन, ओपीड़ी बंद होने से मरीजों को हो रही दिक्कत

रायगढ़ टॉप न्यूज 02 जनवरी/रायपुर। सरकार के नेशनल मेडिकल काउंसिल बिल के नए प्रस्ताव के खिलाफ आज प्रदेश भर के डॉक्टर हड़ताल पर है। आईएमए के आह्वान पर हो रही हड़ताल के चलते सुबह 6 बजे से शाम 6 बजे तक सभी ओपीडी संबंधित स्वास्थ्य सेवाएं बंद रहेंगे। आईएमए के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. अशोक त्रिपाठी ने बताया कि अगर यह बिल पास हुआ तो इलाज महंगा हो जाएगा। हड़ताल की वजह से उपचार प्रभावित होने से लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ा रहा है। वहीं, प्रशासन ने आपतकालीन सेवा जारी रहने का आदेश दिया था। लेकिन जमीनी हकीकत में बीमार से पीडि़त लोगों को इसका लाभी नहीं मिल रहा है। जानिए डॉक्टर क्यों मना रहे आज काला दिन..

मिली जानकारी के अनुसार आईएमए के आह्वान पर प्रदेशभर के डॉक्टर हड़ताल कर रहे हैं। डॉक्टरों के अनुसार एक्ट क्वेकुरी मिथ्या चिकित्सा, ब्रिज पाठ्यक्रम को बढ़ावा मिलेगा। इससे देश की स्वास्थ्य सेवाओं पर दुष्प्रभाव पड़ेगा। आईएमए के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. आशोक त्रिपाठी ने बताया कि इस एक्ट से अनुचित व भ्रष्ट चिकित्सा शिक्षा प्रणाली को बढ़ावा मिलेगा। जिससे चिकित्सा शिक्षा में भ्रष्टाचार बढ़ जाएगा। इसलिए बिल के विरोध में एक दिन काला दिवस मनाने का फैसला लिया है।

इधर मरीजों की बढ़ी परेशानी
हड़ताल की वजह से प्रदेशभर के ओपीड़ी सेवाएं सुबह 6 बजे से बंद है। इसकी वजह से दर्द से तड़पते हुए मरीजों को डॉक्टरी सेवाएं नहीं मिल रही है। इधर छत्तीसगढ़ के सबसे बड़े अंबेडकर अस्पताल में हड़ताल का खासा असर रहा। मरीज सुबह से डॉक्टर के इंतजार में बैठे रहे। वहीं, जब उन्हें हड़ताल के बारे में पता चला तो पीडि़त परिवार विभाग में जाकर अफसरों से मदद की गुहार लगाते नजर आए। बिलासपुर के एम्स में भी मरीज उपचार के लिए इधर उधर भटकते हुए उपचार के लिए अफसरों से गुहार लगाते रहे। वहीं, प्रशासन की इमरजेंसी सेवा कही नजर नहीं आई। आलम यह रहा कि मरीज उपचार के लिए स्ट्रेचर पर ही तड़पता रहा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close