रायगढ़

कार्मेल कान्वेंट के वार्षिक उत्सव ने चक्रधर समारोह की याद की ताजा  

स्कूली बच्चों ने दी एक से बढ़कर एक मनमोहक प्रस्तुतियां 

रायगढ़ टॉप न्यूज 20 नवंबर।  शहर के कार्मेल कान्वेंट इंग्लिस मीडियम स्कूल में गत 18 नवंबर की शाम वार्षिक उत्सव का आयोजन किया गया। इस दौरान स्कूल परिसर में हजारों की संख्या में मौजूद अभिभावकों व नगर के गणमान्य नागरिकों की उपस्थिति में स्कूली बच्चों ने सांस्कृतिक संध्या के रूप में एक से बढ़ कर एक समूह नृत्य, नाटक तथा लय बद्ध संगीत की प्रस्तुती दी। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद पूर्व विधायक विजय अग्रवाल ने जल संरक्षण व स्वच्छता जैसे विषय पर अपना सारगर्भित उद्बोधन देते हुए स्कूली छात्र-छात्राओं व अभिभावकों को प्रेरित किया।  कार्मेल कान्वेंट स्कूल में पिछले दिनों वार्षिक स्नेह सम्मेलन का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि पूर्व विधायक विजय अग्रवाल रहे। स्नेह सम्मेलन शुरू होनें से पूर्व मुख्य अतिथि के आगमन पर स्कूली छात्र-छात्राओं ने ड्रम बैंड के साथ स्कूल के मुख्य द्वार के सामने स्कूल के पदाधिकारियों व प्राचार्य की उपस्थिति में आत्मीय स्वागत किया और उसी ड्रम बैंड के साथ उन्हें मंच तक लाकर विशिष्ट दीर्धा में विराजित किया गया। तत्पश्चात स्कूली बच्चों के द्वारा सांस्कृतिक संध्या के रूप में कार्यक्रमों की प्रस्तुती शुरू हुई। स्वागत संगीत की प्रस्तुती के बाद  सबसे पहले कक्षा पहली के छात्रों ने झूठे बोले कौंआ काटे के गीत पर अपनी नृत्य प्रस्तुती दी। नन्हें मुन्ने बच्चों को एक लय में अपनी प्रस्तुती देते देखकर दर्शक दीर्घा तालियों से गंूज उठा इसके बाद कक्षा दूसरी के छात्रों ने सेलेरिटा और बद्री की  दुल्हनियां के नाम पर अपनी प्रस्तुती दी। इसके बाद कक्षा तीसरी के छात्र-छात्राओं ने जल संरक्षण पर अपनी नाट्य प्रस्तुती देकर दर्शकों को लुभाया। इसके बाद मंच संचालक के द्वारा अतिथि उद्बोधन के लिए मुख्य अतिथि को सम्मान मंच पर बुलाया गया जहां श्री अग्रवाल ने जल संरक्षण और स्वच्छता जैसे विषय पर स्कूली छात्र-छात्राओं के आकर्षक प्रस्तुतियों का उल्लेख करते हुए अपने सारगर्भित उद्बोधन में कहा कि हम और आप बडा लक्ष्य निर्धारित करने के स्थान पर छोटे-छोटे लक्ष्य लेकर अपने क्षेत्र समाज और देश को न केवल जल संरक्षण का बेहतर संदेश दे सकते है बल्कि स्वच्छता के लिए भी स्वंय जागरूक रहकर लोगों को प्रेरित कर सकते है। उन्होंने इस दौरान अपने स्वयं के विदेश यात्रा के दौरान हुई घटना का भी चुटिले अंदाज में उल्लेख किया। इस दौरान स्कूल प्रबंधन की ओर से मुख्य अतिथि को स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया गया।  इसके बाद कक्षा पांचवी और छठवी के छात्र-छात्राओं ने सम्मलित रूप से फार्मेर एक्ट के रूप में किसान की व्यथा कथा की आकर्षक प्रस्तुती दी। इससे पूर्व कक्षा चौथी के छात्रों ने येशु मसीह के कास्पेक्ट पर अपनी आकर्षक प्रस्तुती देकर दर्शकों को मंत्र मुग्ध कर दिया। इसके बाद कक्षा सातवी और आठवी के छात्रों ने देवी नव दुर्गा की आकर्षक प्रस्तुती दी। जिसके बाद स्कूल की प्राचार्या  सिस्टर अरूणा ने कम शब्दों में अपना स्वागत उद्बोधन दिया। वार्षिक उत्सव के अंतिम चरण में कक्षा नवमी और दसवीं के छात्र-छात्राओं ने देश के सांस्कृतिक विरासत के रूप में असम का बिहु नृत्य, पड़ोसी प्रांत उड़ीसा का संबलपुरी लोक नृत्य डालखाई, पंजाब का भागडा और गुजरात के गरजा नृत्य की सम्मलित और मनमोहक प्रस्तुती देकर दर्शकों को ताली बजाने के लिए विवश कर दिया। अंतिम प्रस्तुती ने एक तरफ जहां रायगढ़ के ऐतिहासिक और प्रतिष्ठत चक्रधर समारोह की बानगी प्रस्तुत की तो वहीं दूसरी ओर लोगों को यह कहते भी सुना गया कि पिछले कुछ वर्षो के दौरान चक्रधर समारोह में पड़ोसी प्रांतों के सांस्कृतिक लोक नृत्यों की प्रस्तुती देने को लेकर जिस तरह से उपेक्षा की जा रही है उसकी कहीं न कहीं इन स्कूली छात्रों ने भरपाई करने का भरपूस प्रयास किया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close