व्यापार

भारतीय रेलवे नकदी रहित लेनदेन की मुहिम में टॉप पर

रायगढ़ टॉप न्यूज 09 नवंबर। नई दिल्ली: भारतीय रेलवे नकदी रहित लेनदेन के मामले में सरकार के किसी अन्य विभाग से बहुत आगे निकल गया है और उसका करीब पांच लाख करोड़ रुपए के कारोबार में लगभग 98 प्रतिशत लेनदेन डिजिटल हो गया है और नकदी का काम महज दो फीसदी रह गया है. रेलवे बोर्ड के आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि रेलवे के राजस्व श्रेणी में करीब 3.6 लाख करोड़ रुपये और पूंजीगत श्रेणी में 1.31 लाख करोड़ रुपये के लेनदेन में से करीब 25 हजार करोड़ रुपये का ही लेनदेन नकदी के माध्यम से हो रहा है. इसे भी डिजिटल भुगतान माध्यम पर लाने के लिए नए कदम उठाए जा रहे हैं. सूत्रों के अनुसार रेलवे में विगत तीन साल में सिलसिलेवार ढंग से उठाए गये कदमों से यह संभव हो पाया है.

उन्होंने बताया कि रेलवे मालवहन श्रेणी में 99.8 प्रतिशत लेनदेन डिजिटल हो गया है जबकि आरक्षित श्रेणियों में बुक होने वाले टिकटों में 76 प्रतिशत से अधिक टिकट और अनारक्षित श्रेणी में करीब 10 प्रतिशत टिकट के लिए डिजिटल भुगतान होने लगा है. उन्होंने वर्ष 2016-17 के आंकड़ों के हवाले से बताया कि यात्री राजस्व में 48300 करोड़ रुपए की आय में से करीब 24 हजार करोड़ रुपये नकदी आ रही है जिसे रेलवे स्थानीय स्तर पर फुटकर में होने वाले खर्चों के लिये उपयोग में ला रही है. सूत्रों ने बताया कि पिछले साल नोटबंदी के बाद रेलवे के यात्री राजस्व में डिजिटल लेनदेन करीब 12 प्रतिशत बढ़ा है. भारतीय रेलवे खानपान एवं पर्यटन निगम (आईआरसीटीसी) की वेबसाइट से आरक्षण 62.55 प्रतिशत से बढ़कर 76 प्रतिशत से ज्य़ादा हो गया है. यानी इसमें 14 फीसदी का इज़ाफा हुआ है. सूत्रों ने बताया कि रेलवे ने एक साल के दौरान देशभर के टिकट एवं आरक्षण काउंटरों पर दस हजार पीओएस लगाये हैं.

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close