छत्तीसगढ़

योजनाओं को पूरा करने कलक्टरों को मिला 300 दिन का टारगेट, CM बोले – मैच के अंतिम 10 ओवर बेहद खास

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की अध्यक्षता में आयोजित कलक्टर कॉन्फ्रेंस में सीएम ने कलक्टरों को कार्य योजना के अनुरूप काम करने के निर्देश दिए।

रायगढ़ टॉप न्यूज 23 अक्टूबर/रायपुर। प्रशासनिक कामकाज में कसावट लाने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की अध्यक्षता में सोमवार को महानदी भवन में जिला कलक्टरों की राज्य स्तरीय कॉन्फ्रेंस हुई। मुख्यमंत्री ने विभिन्न योजनाओं की समीक्षा करते हुए कहा कि पिछले कुछ वर्षों में कई योजनाओं में अच्छी सफलता हासिल की गई है, लेकिन इन योजनाओं के लक्ष्यों को प्राप्त करने की दृष्टि से अगले तीन सौ दिन काफी चुनौतीपूर्ण होंगे। उन्होंने अफसरों को लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए 300 दिनों की समय-सीमा देकर कार्य योजना के अनुरूप काम करने के निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री ने कॉन्फ्रेंस में क्रिकेट का उदाहरण देते हुए कहा कि किसी भी मैच में अंतिम 10 ओवर काफी निर्णायक और महत्वपूर्ण होते हैं। उन्होंने कलेक्टरों को अपने-अपने जिलों में विभिन्न विभागों के बीच अधिक समन्वय और सामंजस्य की जरूरत बतायी। मुख्यमंत्री ने उन्हें 31 अक्टूबर को प्रदेश के प्रत्येक जिले में एकता की दौड़ (रन फॉर यूनिटी) और तीन नवम्बर को एक दिवसीय जिला स्तरीय राज्योत्सव आयोजित करने के निर्देश दिए।

सीएम ने प्रधानमंत्री आवास योजना की समीक्षा में पाया कि प्रदेश में अब तक २०१७ के चार लाख 39 हजार 275 के लक्ष्य की तुलना में केवल एक लाख 8 हजार 383 मकान बनाए गए हैं। प्रधानमंत्री आवास योजना में धीमे काम को लेकर सीएम ने कहा कि इसमें और अधिक तेजी लाने की जरूरत है। सीएम ने जिला कलेक्टरों को इस योजना में व्यक्तिगत रूचि लेने के भी निर्देश दिए।

इसके अलावा उन्होंने कहा – अधिकारी भी यह देखें कि ग्रामीण आवास योजना में चयनित हितग्राहियों के मकान गुणवत्तापूर्ण हों और उनका निर्माण समय सीमा में पूर्ण हो जाए। लाभार्थियों को दूसरी किश्त समय पर दी जाए। ग्रामीण आवास योजना के लिए हर ग्राम पंचायत में आवास मित्र भी बनाए गए हैं, जो हितग्राहियों को मार्गदर्शन के साथ जरूरी सहयोग करते हैं।

उन्होंने कहा – सूखा प्रभावित इलाकों में मनरेगा के तहत अधिक से अधिक संख्या में रोजगार मूलक कार्य शुरू किए जाए और मजदूरी का भुगतान भी समय पर हो। डॉ. रमन सिंह ने स्वच्छ भारत मिशन की भी समीक्षा की। उन्होंने कहा – राज्य में अब तक खुले में शौचमुक्त घोषित ग्राम पंचायतों का भौतिक सत्यापन मार्च 2018 तक पूर्ण कर लिया जाए।

सीएम ने प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) में धमतरी जिले की उपलब्धियों को सबसे अच्छा बताया। वहीं उन्होंने स्वच्छ भारत मिशन में कोरिया, कांकेर, गरियाबंद और बस्तर जिलों के कलेक्टरों को और भी अधिक मेहनत करने की सलाह दी।

इसके अलावा सीएम ने कलेक्टर्स कॉन्फ्रेंस में 15 विभागों के काम-काज की जिलेवार विस्तृत समीक्षा की। कॉन्फ्रेंस में मुख्य सचिव विवेक ढांड सहित विभिन्न विभागों के अपर मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव और सचिव और सभी संभागों के कमिश्नर भी उपस्थित थे।
साभार पत्रिका.कॉम

advertisement advertisement advertisement advertisement advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close