खेल

विश्व वेटरन कुश्ती चैंपियनशिप में भारतीय पहलवानों ने जीते पदक

प्लोव्दिव (बुल्गारिया) : बुल्गारिया के शहर प्लोव्दिव में 10 से 15 अक्टूबर तक आयोजित हुई विश्व वेटरन कुश्ती चैम्पियनशिप में भले ही भारत के पहलवानों का प्रदर्शन बेहतरीन न रहा हो, लेकिन वह अंतिम दिन पदक हासिल करने में कामयाब रहे. भारत के गुरलाल सिंह ने 88 किग्रा. फ्री स्टाईल वर्ग और 100 किलो फ्रीस्टाइल ‘सी डिवीजन’ में पंजाब के रणधीर सिंह ने कांस्य पदक जीता. गुरलाल इस टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में बुल्गारिया के अतानास स्टोयानोव एटानसओव से हार गये थे.

हालाकि, उन्होंने अपने पहले मुकाबले में तुर्की के मेसुट ईकेएमकेसी को मात्र 42 सेकेंड में परास्त कर कांस्य पदक पर कब्जा जमाया. इसके अलावा, अर्जुन पुरस्कार विजेता रणधीर ने अहम मुकाबले में जापान के केइजो साकिकाबरा को हरा कर कांस्य पदक जीतने में सफलता हासिल की. यह उनका व्यक्तिगत पांचवा विश्व स्तर का पदक है.

रणधीर ने इससे पहले भी इस्तांबुल, तुर्की में पिछले साल आयोजित विश्व वेटरन कुश्ती चैम्पियनशिप में कांस्य पदक जीता था. उन्होंने विश्व वेटरन में अब तक कुल पांच पदक जीते हैं, जिसमे एक स्वर्ण, एक रजत व तीन कांस्य शामिल हैं.

विश्व कुश्ती चैंपियनशिप में एक भी पदक नहीं ला सके थे भारतीय पहलवान
इससे पहले अगस्त में हुई विश्व कुश्ती चैंपियनशिप में भारत के पहलवान कोई पदक नहीं जीत सके थे. बजरंग पूनिया विश्व कुश्ती चैंपियनशिप के अंतिम दिन पुरुषों की 65 किग्रा फ्रीस्टाइल स्पर्धा के अपने रेपेचेज दौर में हार गये थे, जिससे भारत ने अपना अभियान एक भी पदक जीते बिना निराशाजनक तरीके से समाप्त किया. दिलचस्प बात है कि यह लगातार दूसरी विश्व चैंपियनशिप थी, जब भारतीय पहलवान खाली हाथ वापस लौटे. पिछले साल बुडापेस्ट में पिछले टूर्नामेंट में भी देश कोई पदक नहीं जीता पाया था.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close