Uncategorized

कैलाशपति धाम में पवित्र श्रावण मास की तैयारियां पूरी, माह भर चलेगा भोलेनाथ का रूद्राभिषेक

रायगढ़ । कहते है कि देवो के देव महादेव अपने भक्तो की भक्ति पर शीघ्र ही प्रसन्न हो जाते है और उन्हे मनोवांछित फल भी प्रदान करते है। सावन मास को भोलेनाथ की भक्ति का मास माना जाता है हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी 23 जुलाई से शुरू हो रहे पवित्र सावन मास के लिये शहर के पंडरीपानी स्थित कैलाश पति धाम में भगवान भोलेनाथ कि विशेष पूजा अर्चना रूद्राभिषेक तथा हवन पूजन की सभी तैयारियां पूरी कर ली गई है। सावन मास में पूरे महिने भर यहां भगावन शिव की विशेष पूजा अर्चना की जायेगी। जिसमें शामिल होने के लिये भक्त साल भर इस पवित्र माह की प्रतिक्षा करते है।
सावन मास को शिव भक्ति के लिये पवित्र मास माना जाता है ऐसी मान्यता है कि सावन के महिने में भगवान भोले शंकर पर पवित्र मन से चढ़ाया गया एक विल्प पत्र भी उन्हे प्रसन्न करने के लिये काफी है। भोलेनाथ तो ऐसे है जो इस पवित्र मास मे केवल जल चढ़ाने मात्र से ही प्रसन्न हो जाते है यही कारण है कि सावन के महिने में विश्वभर के शिवालयों में भगवान शिव को जल चढ़ाया जाता है। शिव भक्त सैकड़ो किमी की पैदल यात्रा करके कांवर में जल ले जाते है और शिवलिंग में इसे अर्पित करते है। ऐसे ही शास्त्रोक्त विधि से रूद्रभिषेक कराने से भी शिवशंकर अति प्रसंन्न होते है रायगढ़ में पंडरीपानी के सुरम्य वातावरण में स्थित कैलाशपति धाम में प्रतिवर्ष पूरे विधिविधान से रूद्राभिषेक संपन्न कराया जाता है। प्रतिवर्ष पूरे श्रवण मास के दौरान रोज होने वाले रूद्राभिषेक मे सैकड़ो श्रद्धालू शामिल होते है और रू दा्रभिषेक का हिस्सा बनते है।
कैलाशपति धाम के संस्थापक बाबा रामसिंह ने बताया कि इस महाआयोजन मे साल दर साल श्रद्धालूओं की संख्या बढ़ती जा रही है। श्रद्धा पूर्वक एकाग्रता से पूजन करने के लिये जरूरी है कि अनुशासन से श्रद्धालूओं की तिथियां एवं समय तय किया जाये ताकि सुगमता पूर्वक पूजन को संपन्न कराया जा सके। अत: जिस किसी श्रद्धालु को रूद्राभिषेक में भाग लेना हो वे समय पर प्रमोद अग्रवाल, संजय बहिदार, हिरामोटवानी, प्रमोद अग्रवाल (आर्शीवाद), बाबूलाल अग्रवाल(अधिवक्ता), व नटवर मोदी (लिवास) से संपर्क कर लें।
सावन मास में प्रत्येक दिन कैलाशपति धाम में होने वाले रूद्रभिषेक का अपना अलग आनंद और प्रभाव है। जो भी श्रद्धालु इस पूजा में हिस्सा लेते है वे यह पाते है कि रूद्राभिषेक मे शामिल होने के बाद से ही उनके जीवन मे सकारात्मक परिवर्तन आया है।
उल्लेखनीय है कि आगामी 23 जुलाई मंगलवार से शुरू हो रहा पवित्र सावन मास 22 अगस्त तक चलेगा और इस पूरे मास भर कैलाशपति धाम में भगवान भोलेशंकर के विशेष पूजा अर्चना पश्चात 22 अगस्त की दोपहर भक्तगणों द्वारा भव्य भंण्डारा का भी आयोजन किया जायेगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close