Uncategorized

भड़के बोईरदादर क्षेत्रवासी, गलत नाली निर्माण के खिलाफ किया चक्का जाम, बोईरदादर चौक में डेढ़ घंटे रहा आवागमन बंद, काम रुकवाने पर हटाया जाम

रायगढ़ । शहर के बोईरदादर क्षेत्र में शासन द्वारा सड़क चौड़ीकरण नाम पर भारी मात्रा में तोडफ़ोड़ किया जा रहा है। क्षेत्र के लोगों का आरोप है कि शासन द्वारा चेहरा देखकर घरों तोड़ा जा रहा है। एक ओर जहां किसी का 60 फीट मकान तोड़ा जा रहा है तो दूसरी ओर व्यावसायिक लाभ पहूंचाने के लिये कुछ मकानों को छुआ तक नहीं जा रहा है। इसी बात को लेकर शनिवार की सुबह सैकड़ों की संख्या में बोईदादर क्षेत्र के लोगों ने चक्काजाम कर नगर निगम आयुक्त के खिलाफ नारेबाजी की। इससे पहले भी बोईरदादरवासी इस संबंध में कलेक्टर को ज्ञापन सौंप चुके हैं। लेकिन किसी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं होते देख आज लोगों ने चक्काजाम कर दिया। चक्काजाम की सूचना मिलते ही नगर निगम आयुक्त व सहायक कलेक्टर दीपक सोनी मौके पर पहुंचे तथा लोगों को समझाया और कहा कि जिन-जिन घरों में लाल निशान लगे हैं वो टुटेगा और किसी के साथ अन्याय नहीं होगा।
रायगढ़ शहर के बोईरदादर क्षेत्र के लोग विशेषकर स्टेडियम रोड बोईरदादर चौक के लोग एक लंबे अरसे से कभी सड़क निर्माण के नाम पर तो कभी भारी वाहनों की आवाजाही तथा प्रदूषण के कारण छले जाते रहे हैं। इन दिनों क्षेत्रवासी सड़क चौड़ीकरण के भूत से इतने भयभीत हैं कि लोगों के दिन का चैन और रातों की नींद उड़ी हुई है। दरअसल यातायात समस्या तथा शहर की सड़कों के कालाकल्प की दृष्टि से जिन 25 सड़कों का निर्माण कार्य किया जाना है उनमें दुर्गा चौक से बोईरदादर बेरियर तक का मार्ग भी शामिल है। इस लगभग डेढ़ किलोमीटर सड़क के चौड़ीकरण को लेकर शहर के कई अन्य सड़कों की भांति भ्रांतियां बनी हुई है जहां प्रशासन इस मार्ग को 80 फीट चौड़ा करने की मंशा रखता है वहीं क्षेत्रवासी मार्ग का चौड़ीकरण 40 से 50 फीट चाहते हैं इसी बीच निगम की परिषद द्वारा बैठक में इस बाबत् प्रस्ताव पारित कर इस सड़़क का चौड़ीकरण 80 फीट करने का निर्णय लिया गया है। क्षेत्रवासियों ने नगर निगम के इस निर्णय को किसी तरह छाती पर पत्थर रखकर तो स्वीकार कर लिया मगर सड़क चौड़ीकरण के लिए निगम अमले द्वारा चिन्हांकन किये जाने के बाद लोग इस बात से रुष्ट हैं कि निगम द्वारा दुर्भावना पूर्वक चौड़ीकरण के लिए चिन्हांकन किया जा रहा है और कुछ व्यवसायिक किया जा रहा है और कुछ व्यवसायिक रुतबा रखने वाले लोगों को जानबूझकर लाभ पहूंचाने की कोशिश की जा रही है। क्षेत्रवासियों का आरोप है कि 80 फीट में नाली निर्माण शामिल है मगर सोनी काम्पलेक्स के पास नाली को टेढ़ा कर दिया गया है जिससे इस काम्पलेक्स के भूस्वामी को 5 फीट का लगभग लाभ मिल रहा है और इतना ही नुकसान सड़क के सामने वाले भूमि स्वामी को हो रहा है। इसी मांग को लेकर क्षेत्रवासियों ने दो दिन पहले कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा था मगर कोई कार्रवाई की पहल नहीं होने पर आज शनिवार की सुबह क्षेत्र के लगभग डेढ़ सौ लोगों ने पक्षपात के विरोध में बोईरदादर चौक में चक्काजाम कर दिया और प्रशासन तथा निगम आयुक्त के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। पूर्वान्ह करीब 11 बजे से शुरू हुआ चक्काजाम करीब डेढ़ घंटे चला जिसके कारण सड़क के दोनों तरफ वाहनों की कतार लग गयी और लोग धूप के कारण परेशान रहे। इस बीच चक्काजाम की सूचना मिलने पर सहायक कलेक्टर दीपक सोनी, निगम आयक्त, राकेश जायसवाल, तहसीलदार नीलम टोप्पो, मौके पर पहूंचे और प्रदर्शनकारियों को समझाईश देकर मनाने का प्रयास किया मगर क्षेत्रवासी इस बात पर अड़े हुए थे कि सोनी काम्पलेक्स के भूमि स्वामी को लाभ पहूंचाने के लिए नाली को टेढ़ा कर दिया गया है इसलिए जब तक सोनी भवन का चिन्हांकन वाला हिस्सा न टूटे तब तक न तो नाली निर्माण करने दिया जायेगा और न ही सड़क निर्माण। लोग सीधी नाली निर्माण की मांग पर अड़े रहे और तोडफ़ोड़ में दुर्भावना का आरोप लगाया जिस पर सहायक कलेक्टर श्री सोनी ने कहा कि विकास में रिश्तेदारी आड़े नहीं आयेगी और जिलाधीश की मंशानुरुप सड़क व नाली निर्माण होगा और सोनी भवन के चिन्हांकन का हिस्सा भी तोड़ा जायेगा के बाद में प्रदर्शनकारियों की मांग पर उन्होंने नाली निर्माण कार्य को रोकने तथा खुदाई किये गये गड्ढे को पाटने का आदेश दिया जिसके बाद प्रदर्शनकारी शांत हुए और चक्काजाम हटने के बाद इस मार्ग पर आवागमन शुरू हो सका।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close