रायगढ़

ओपीजेयू के सोलर वाहन को इलेक्ट्रिक सोलर व्हीकल चैम्पियनशिप-2019 में मिला ‘स्पिरिट ऑफ द ESVC-2019’ अवार्ड

रायगढ़ टॉप न्यूज 15 अप्रैल। ओपी जिंदल विश्वविद्यालय, रायगढ़ की सोलर व्हीकल मैन्युफैक्चरिंग टीम – ‘सोलरिक’ ने एशिया की सबसे बड़ी इलेक्ट्रिक सोलर व्हीकल चैम्पियनशिप- 2K19 में भाग लिया, जो कि ISIE-INDIA द्वारा 27- 31 मार्च, 2019 को चंडीगढ़ में आयोजित की गई थी। टीम ने एक सौर वाहन बनाया जिसकी डिजाइन अद्वितीय है; और यह वाहन एर्गोनोमिकली साउंड, डायनामिकली स्टेबल, कम वजन की तथा सौर ऊर्जा से चलने वाली है। इन सभी सुविधाओं के साथ, वाहन ड्राइविंग में भी बहुत ही सहज और आरामदेह है। प्रतियोगिता के क्वालीफाइंग दौर से गुजरने के बाद, ओपीजेयू टीम ने इलेक्ट्रिक सोलर व्हीकल चैम्पियनशिप 2K19 के अंतिम दौर में प्रवेश किया और वाहन को ‘स्पिरिट ऑफ़ द ESVC-2019’ से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के मैकेनिकल इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग और कंप्यूटर साइंस के 30 छात्रों की एक टीम ने डॉ. एस एस चक्रवर्ती और प्रो. प्रदीप एस. चौहान के मार्गदर्शन में प्रतियोगिता के लिए वाहन तैयार किया और प्रदर्शन किया।


ओपीजेयू के कुलपति डॉ. आर. डी. पाटीदार ने टीम को बधाई दी और उनके प्रयासों की सराहना की। उन्होंने ओपीजेयू का नाम ऊंचा करने के लिए उनकी प्रशंसा की। डॉ. पी. एस. बोकारे, डीन- एसओई ने नवोदित और भविष्य के इंजीनियरों के लिए एक बेंचमार्क बनाने के लिए सौर टीम के प्रयासों की सराहना की। उन्होंने उन्हें अक्षय ऊर्जा पर अधिक काम करने और ऑटोमोबाइल क्षेत्र में और भी ज्यादा काम करके नए प्रतिमान स्थापित करने के लिए कहा।

डॉ. बोकारे ने यह भी बताया कि कई संगठनों ने सौर वाहन परियोजना को प्रायोजित किया है और उनकी मदद ने प्रोजेक्ट को आगे बढ़ाया है। उन्होंने परियोजना के प्रायोजकों- छत्तीसगढ़ राज्य अक्षय ऊर्जा विकास एजेंसी (क्रेडा), नेशनल थर्मल पावर कॉरपोरेशन, लारा, फ्रोनियस इंडिया प्राइवेट लिमिटेड, पुणे, एडमॉन्ट (नोएडा), काहो सोलर प्राइवेट लिमिटेड, सन मोबिलिटी प्राइवेट लिमिटेड, नलवा स्टील एंड पावर लिमिटेड, और जिंदल स्टील एंड पावर लिमिटेड के प्रति अमूल्य सहयोग के लिए आभार व्यक्त किया। टीम के सदस्यों के प्रयासों की सराहना करते हुए, टीम के कप्तान शीपत मिश्रा (मैकेनिकल इंजीनियरिंग) और टीम के उप-कप्तान हर्षित दुबे (मैकेनिकल इंजीनियरिंग), रिशव (सीएसई) और आदित्य अंबोली (ईईई) ने सभी मार्गदर्शकों और विश्वविद्यालय प्रबंधन को परियोजना को पूरा करने और सफलता प्राप्त करने में उनके निरंतर समर्थन और प्रेरणा के लिए धन्यवाद किया ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close